1. You Are At:
  2. Hindi News
  3. भारत
  4. राष्ट्रीय
  5. 700 मशहूर कश्मीरी पंडितों ने अनुच्छेद 370 पर केंद्र के फैसले का समर्थन किया: पनुन कश्मीर

700 मशहूर कश्मीरी पंडितों ने अनुच्छेद 370 पर केंद्र के फैसले का समर्थन किया: पनुन कश्मीर

विस्थापित कश्मीरी पंडितों के संगठन पनुन कश्मीर के संयोजक अग्निशेखर ने अनुच्छेद 370 के प्रावधानों को हटाए जाने के समर्थन में बृहस्पतिवार को एक ज्ञापन जारी किया और कहा कि 700 से ज्यादा मशहूर कश्मीरी पंडितों ने इस ज्ञापन का समर्थन किया है।

Bhasha Bhasha
Published on: August 22, 2019 18:03 IST
Jammu Kashmir- India TV
Image Source : INDIA TV जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटाकर दो केंद्रशासित प्रदेशों में बांट चुकी है केंद्र सरकार

जम्मू। विस्थापित कश्मीरी पंडितों के संगठन पनुन कश्मीर के संयोजक अग्निशेखर ने अनुच्छेद 370 के प्रावधानों को हटाए जाने के समर्थन में बृहस्पतिवार को एक ज्ञापन जारी किया और कहा कि 700 से ज्यादा मशहूर कश्मीरी पंडितों ने इस ज्ञापन का समर्थन किया है।

उन्होंने दावा किया कि जम्मू-कश्मीर में स्वतंत्र वातावरण का मार्ग प्रशस्त करने के लिए’’ अनुच्छेद 370 के प्रावधानों को हटाने को लेकर सभी कश्मीरी पंडित केंद्र के समर्थन में हैं। अग्निशेखर ने यहां संवाददाताओं से कहा कि अनुच्छेद 370 के प्रावधानों को हटाए जाने और जम्मू कश्मीर के पुनर्गठन के समर्थन में दुनिया भर से 700 से अधिक प्रमुख कश्मीरी पंडितों ने एक ज्ञापन पर हस्ताक्षर किए हैं।

इन लोगों में पद्मश्री पुरस्कार से सम्मानित लोग, कुलपति, शिक्षाविद और चिकित्सक शामिल हैं। उन्होंने कहा कि पनुन कश्मीर कश्मीरी पंडितों के लिए केंद्र शासित प्रदेश की जोरदार वकालत कर रहा था और आखिरकार मांग पूरी हो गई।

अग्निशेखर ने कहा, ‘‘यह पिछले 30 वर्षों से पनुन कश्मीर के संघर्ष का परिणाम है। हम केंद्र सरकार के फैसले का स्वागत करते हैं।’’ पनुन कश्मीर के अध्यक्ष अजय चुरंगु ने दावा किया कि कुछ कश्मीरी पंडित, भारत सरकार के फैसले के विरोध में बयान दे रहे हैं, वे कश्मीरी पंडितों का प्रतिनिधित्व नहीं करते हैं। उन्होंने कहा, ‘‘हम उनकी निंदा करते हैं, वे कश्मीरी पंडितों के किसी भी संगठन का प्रतिनिधित्व नहीं करते।’’

India TV पर देश-विदेश की ताजा Hindi News और स्‍पेशल स्‍टोरी पढ़ते हुए अपने आप को रखिए अप-टू-डेट। National News in Hindi के लिए क्लिक करें भारत सेक्‍शन
Write a comment