1. You Are At:
  2. होम
  3. गैलरी
  4. टेलीविजन
  5. TV Ka Dum: उदय शंकर, एनपी सिंह, राज नायक ने टीवी पर दिखाए जाने वाले शो को लेकर की बात

TV Ka Dum: उदय शंकर, एनपी सिंह, राज नायक ने टीवी पर दिखाए जाने वाले शो को लेकर की बात

India TV Photo Desk [Updated: 05 Feb 2019, 5:21 PM IST]
  • इंडिया टीवी के कॉन्क्लेव TV Ka Dum में बतौर स्पेशल गेस्ट पहुंचे 21st सेंचुरी फॉक्स के प्रेसिडेंट उदयशंकर, वाययॉम 18 के सीओओ राज नायक, सोनी एंटरटेनमेंट के एमडी-सीईओ एन पी सिंह।  
    1/5

    इंडिया टीवी के कॉन्क्लेव TV Ka Dum में बतौर स्पेशल गेस्ट पहुंचे 21st सेंचुरी फॉक्स के प्रेसिडेंट उदयशंकर, वाययॉम 18 के सीओओ राज नायक, सोनी एंटरटेनमेंट के एमडी-सीईओ एन पी सिंह।

     

  • 21st सेंचुरी फॉक्स के प्रेसिडेंट उदयशंकर से जब शो के होस्ट मनीष पॉल ने सवाल करते हुए पूछा कि क्या टीवी पर शो टीआरपी के लिए ही बनाए जाते हैं? तो इस पर उदशंकर का दिलचस्प जवाब सुनकर आपको मजा आ जाएगा। उदयशंकर ने कहा कि हां टेलीविजन पर जो भी शो बनते है वह टीआरपी के लिए बनते हैं, क्यों कि ये मास मीडिया है और उन्ही के लिए हम शो बनाते हैं। 
    2/5

    21st सेंचुरी फॉक्स के प्रेसिडेंट उदयशंकर से जब शो के होस्ट मनीष पॉल ने सवाल करते हुए पूछा कि क्या टीवी पर शो टीआरपी के लिए ही बनाए जाते हैं? तो इस पर उदशंकर का दिलचस्प जवाब सुनकर आपको मजा आ जाएगा। उदयशंकर ने कहा कि हां टेलीविजन पर जो भी शो बनते है वह टीआरपी के लिए बनते हैं, क्यों कि ये मास मीडिया है और उन्ही के लिए हम शो बनाते हैं। 

  • आगे उदयशंकर कहते हैं कि लोगों को पसंद आ रही है तभी हम टीवी पर ऐसे शो बना रहे हैं। टीआरपी और  रेटिंग में एक चीज का फर्क है, रेटिंग एक आउटपुट है, जब आप कुछ बनाते हैं वह लोगों की पसंद के ऊपर बनाया जाता है। हर शो एक जैसा नहीं बना सकते है। इसलिए टीवी पर तरह-तरह के शो बनाए जाते हैं जैसे कुछ फनी, सीरियस, और तो और कुछ मसाले वाले सीरियल्स और इसी में आपके सास बहू के सीरियल्स आते हैं। समाज में जैसा हो रहा है उस तरह के शो बनाए जा रहे हैं। 
    3/5

    आगे उदयशंकर कहते हैं कि लोगों को पसंद आ रही है तभी हम टीवी पर ऐसे शो बना रहे हैं। टीआरपी और  रेटिंग में एक चीज का फर्क है, रेटिंग एक आउटपुट है, जब आप कुछ बनाते हैं वह लोगों की पसंद के ऊपर बनाया जाता है। हर शो एक जैसा नहीं बना सकते है। इसलिए टीवी पर तरह-तरह के शो बनाए जाते हैं जैसे कुछ फनी, सीरियस, और तो और कुछ मसाले वाले सीरियल्स और इसी में आपके सास बहू के सीरियल्स आते हैं। समाज में जैसा हो रहा है उस तरह के शो बनाए जा रहे हैं। 

  • वाययॉम 18 के सीओओ राज नायक से जब शो के होस्ट मनीष पॉल ने पूछा टेलीविजन पर लोग कैसे शो देखना पसंद करते हैं?इस पर राज ने जवाब दिया कि लोग नेगेटिव शो देखना ज्यादा पसंद करते हैं? वह इसलिए देखना पसंद करते हैं क्योंकि आजकल लोगों के साथ नेगेटिव चीजें ज्यादा होती हैं, उनके दिमाग में पॉजिटिव चीजों की तुलना में नेगेटिव चीजें ज्यादा आती हैं। आगे राज नायक कहते हैं कि लोगों की पसंद और दिलचस्पी को देखकर ही ऐसे शो बनाए जा रहे हैं।
    4/5

    वाययॉम 18 के सीओओ राज नायक से जब शो के होस्ट मनीष पॉल ने पूछा टेलीविजन पर लोग कैसे शो देखना पसंद करते हैं?इस पर राज ने जवाब दिया कि लोग नेगेटिव शो देखना ज्यादा पसंद करते हैं? वह इसलिए देखना पसंद करते हैं क्योंकि आजकल लोगों के साथ नेगेटिव चीजें ज्यादा होती हैं, उनके दिमाग में पॉजिटिव चीजों की तुलना में नेगेटिव चीजें ज्यादा आती हैं। आगे राज नायक कहते हैं कि लोगों की पसंद और दिलचस्पी को देखकर ही ऐसे शो बनाए जा रहे हैं।

  •  सोनी एंटरटेनमेंट एमडी-सीईओ एन पी सिंह से जब होस्ट मनीष पॉल ने सवाल किए ये सभी शो सामाजिक जागरुकता फैलाने में कितना असरदार है? इस पर एन पी सिंह जवाब सुनिए...  समाजों में जागरुकता फैलाने में ये शो काफी बड़ा रोल अदा करती है। सिर्फ इतना ही नहीं सोनी के शो केबीसी की वजह से कई सोशल एंड पॉजिटिव बदलाव हुए। यह ऐसा शो साबित हुआ जिसकी वजह से लोग प्रोत्साहित होकर आगे आए। इस शो की कामयाबी ने लोगों के दिमाग में एक सकारात्मक विचार का संचार किया है।
    5/5

     सोनी एंटरटेनमेंट एमडी-सीईओ एन पी सिंह से जब होस्ट मनीष पॉल ने सवाल किए ये सभी शो सामाजिक जागरुकता फैलाने में कितना असरदार है? इस पर एन पी सिंह जवाब सुनिए...  समाजों में जागरुकता फैलाने में ये शो काफी बड़ा रोल अदा करती है। सिर्फ इतना ही नहीं सोनी के शो केबीसी की वजह से कई सोशल एंड पॉजिटिव बदलाव हुए। यह ऐसा शो साबित हुआ जिसकी वजह से लोग प्रोत्साहित होकर आगे आए। इस शो की कामयाबी ने लोगों के दिमाग में एक सकारात्मक विचार का संचार किया है।

Next Photo Gallery