1. You Are At:
  2. होम
  3. गैलरी
  4. मस्ट वाच
  5. ‘दुश्मन’ को मात देने के लिए भारत-अमेरिका का युद्ध अभ्यास, देखिए तस्वीरें

‘दुश्मन’ को मात देने के लिए भारत-अमेरिका का युद्ध अभ्यास, देखिए तस्वीरें

India TV Photo Desk [Updated: 25 Sep 2016, 9:34 PM IST]
  • भारत और अमेरिका एक साथ मिलकर युद्ध अभ्यास कर रहे है। यह उत्तराखंड में चल रहा है, जिसमें 225 जवान शामिल हैं।
    1/10

    भारत और अमेरिका एक साथ मिलकर युद्ध अभ्यास कर रहे है। यह उत्तराखंड में चल रहा है, जिसमें 225 जवान शामिल हैं।

  • भारत ने इसमें 12-मद्रास रेजिमेंट के जवानों को भेजा है। दोनों देशों की तीनों सेनाएं अलग-अलग युद्ध अभ्यास में हिस्सा लेंगी, इनकी योजना पर काम जारी है।
    2/10

    भारत ने इसमें 12-मद्रास रेजिमेंट के जवानों को भेजा है। दोनों देशों की तीनों सेनाएं अलग-अलग युद्ध अभ्यास में हिस्सा लेंगी, इनकी योजना पर काम जारी है।

  • भारत और अमेरिका के बीच हो रहे इस युद्ध अभ्यास से पाकिस्तान को भी कड़ा संदेश मिलेगा।
    3/10

    भारत और अमेरिका के बीच हो रहे इस युद्ध अभ्यास से पाकिस्तान को भी कड़ा संदेश मिलेगा।

  • लगातार चलने वाले अभ्यास मुख्यतः काउन्टर इंसर्जेंसी व काउन्टर टेरेरिज्म ऑपरेशनों का ध्यान में रख कर किया गया है।
    4/10

    लगातार चलने वाले अभ्यास मुख्यतः काउन्टर इंसर्जेंसी व काउन्टर टेरेरिज्म ऑपरेशनों का ध्यान में रख कर किया गया है।

  • इसमें हेलीकॉप्टरों के साथ नेशनल स्टाइल एरिया में सैनिको को तैनात किया जाता है।
    5/10

    इसमें हेलीकॉप्टरों के साथ नेशनल स्टाइल एरिया में सैनिको को तैनात किया जाता है।

  • यह सैन्य अभ्यास संयुक्त राष्ट्राधिदेष का एक हिस्सा है।
    6/10

    यह सैन्य अभ्यास संयुक्त राष्ट्राधिदेष का एक हिस्सा है।

  • इस अभ्यास को रानीखेत के चैबटिया के घने जंगलो के अंजाम दिया जा रहा है जहां की ऊंचाई 6000 फीट से 7800 फीट की रेंज में है।
    7/10

    इस अभ्यास को रानीखेत के चैबटिया के घने जंगलो के अंजाम दिया जा रहा है जहां की ऊंचाई 6000 फीट से 7800 फीट की रेंज में है।

  • इस सैन्य अभ्यास में आतंकवादियो को नाकाम करने संबंधी टैक्टिकल शामिल हैं।
    8/10

    इस सैन्य अभ्यास में आतंकवादियो को नाकाम करने संबंधी टैक्टिकल शामिल हैं।

  • इस अभ्यास की शुरुआत कठिन व लगभग 6 किलोमीटर पैदल अभियान से की गई है जिसमें प्रत्येक सैनिक को लगभग 30 किलोग्राम वजन के साथ सैन्य सामग्री लेकर चलना था।
    9/10

    इस अभ्यास की शुरुआत कठिन व लगभग 6 किलोमीटर पैदल अभियान से की गई है जिसमें प्रत्येक सैनिक को लगभग 30 किलोग्राम वजन के साथ सैन्य सामग्री लेकर चलना था।

  • इस अभियान से दोनों राष्ट्रों के सैनिको का शारिरिक दक्षता का एसिड टेस्ट भी किया गया।
    10/10

    इस अभियान से दोनों राष्ट्रों के सैनिको का शारिरिक दक्षता का एसिड टेस्ट भी किया गया।

Next Photo Gallery