Live TV
GO
  1. Home
  2. विदेश
  3. यूरोप
  4. पूर्व जासूस पर हमले के पीछे...

पूर्व जासूस पर हमले के पीछे रूस का हाथ होने की संभावनाएं ज्यादा

यूरोपीय संघ के अध्यक्ष डोनाल्ड टस्क ने कहा है कि यूरोपीय संघ (ईयू) के नेता ब्रिटेन के उस मूल्यांकन से सहमत हैं जिसमें रूस द्वारा ही अपने पूर्व जासूस पर नर्व एजेंट हमला कराने की संभावना जताई गई है।

India TV News Desk
Edited by: India TV News Desk 23 Mar 2018, 10:52:19 IST

ब्रसेल्स: यूरोपीय संघ के अध्यक्ष डोनाल्ड टस्क ने कहा है कि यूरोपीय संघ (ईयू) के नेता ब्रिटेन के उस मूल्यांकन से सहमत हैं जिसमें रूस द्वारा ही अपने पूर्व जासूस पर नर्व एजेंट हमला कराने की संभावना जताई गई है। अधिकारियों ने बताया कि इस संभावना पर सहमति बनने के साथ ही आज ईयू नेताओं ने रूस से अपने दूत को वापस बुलाने का फैसला किया। ब्रसेल्स में आयोजित यूरोपीय संघ के एक सम्मेलन में 28 नेताओं ने सर्वसम्मति से इस बयान का समर्थन किया कि ब्रिटेन के दक्षिणी- पश्चिमी शहर सेलिसबरी में हुए नर्व एजेंट हमले में रूस का शामिल होना ही इस घटना की‘ संभाव्य व्याख्या’ है। (ट्रंप ने उठाया बड़ा कदम, बढ़ सकती है चीन की मुश्किलें )

ब्रिटेन की प्रधानमंत्री टेरेसा मे द्वारा अपने सहयोगियों से निजी तौर पर की गई अपील के बाद यूरोपीय संघ के नेताओं ने यह एकजुटता दिखाई। टस्क ने ट्वीट किया, “ यूरोपीय परिषद ब्रिटेन सरकार की इस बात से सहमत है कि सेलिसबरी हमले के पीछे रूस का हाथ होने की बहुत ज्यादा संभावना है और इस हमले के पीछे की कोई अन्य संभावित व्याख्या नहीं है।” इसी बीच यूरोपीय संघ के नेताओं ने आज निर्णय लिया कि वह रूस में संघ के दूत को वापस बुला लेंगे।

ईयू में शामिल कई और देश भी रूसी राजनयिकों को निष्कासित करने या अपने दूतों का वापस बुलाने के बारे में विचार कर रहे हैं। यूरोपीय संघ के एक वरिष्ठ अधिकारी ने संघ के पहले दिन के सम्मेलन के बाद कहा, “ दोषारोपण पर सहमत होने के बाद संघ के सदस्य इस बात पर विचार कर रहे हैं कि कैसे सिर्फ दोषारोपण से आगे बढ़कर वह कुछ कार्रवाई करेंगे।” नीदरलैंड के प्रधानमंत्री मार्क रुट्टे ने यूरोपीय संघ के दूत को वापस बुलाने की पुष्टि की है।

India Tv पर देश-विदेश की ताजा Hindi News और स्‍पेशल स्‍टोरी पढ़ते हुए अपने आप को रखिए अप-टू-डेट। Europe News in Hindi के लिए क्लिक करें विदेश सेक्‍शन
Web Title: possibility of Russia hand behind the attack on former spy