Live TV
GO
Hindi News विदेश एशिया शी के कार्यकाल संबंधी सीमा प्रस्ताव...

शी के कार्यकाल संबंधी सीमा प्रस्ताव को लेकर चीन में उठी विरोध की आवाज

चीन में एक जाने माने राजनीतिक टिप्पणीकार एवं एक प्रसिद्ध महिला कारोबारी ने उस प्रस्ताव के खिलाफ आवाज उठाई है जिसके अमल में आने पर राष्ट्रपति शी जिनपिंग को अनिश्चतकाल तक सत्ता पर काबिज रहने की अनुमति मिल जाएगी।

India TV News Desk
Edited by: India TV News Desk 27 Feb 2018, 15:48:57 IST

बीजिंग: चीन में एक जाने माने राजनीतिक टिप्पणीकार एवं एक प्रसिद्ध महिला कारोबारी ने उस प्रस्ताव के खिलाफ आवाज उठाई है जिसके अमल में आने पर राष्ट्रपति शी जिनपिंग को अनिश्चतकाल तक सत्ता पर काबिज रहने की अनुमति मिल जाएगी। देश में इस तरह के विरोध की आवाज कभी-कभार ही उठ पाती है। टिप्पणीकार ने सांसदों को खुला पत्र लिखकर आग्रह किया है कि वे शी को अनिश्चितकाल तक सत्ता में बने रहने की अनुमति देने वाले प्रस्ताव को खारिज करें। चीन की सत्तारूढ़ कम्युनिस्ट पार्टी ने राष्ट्रपति और उपराष्ट्रपति के कार्यकाल की समयसीमा खत्म करने के लिए रविवार को एक प्रस्ताव की घोषणा की थी। (शादी के लिए दूल्हे और रिश्तेदार अरेंज करवा रही है वियतनाम की ये कंपनी, कर रही है करोड़ों की कमाई )

इस प्रस्ताव के विरोध में लोकप्रिय मैसेजिंग एप वीचैट पर बयान प्रसारित हो रहे हैं। सरकार संचालित ‘चाइना यूथ डेली’ के पूर्व संपादक ली दातोंग ने वीचैट पर कल एक बयान में चीन की रबड़ स्टाम्प संसद के सदस्यों को लिखा कि कार्यकाल की सीमा खत्म करना ‘‘अराजकता के बीज बोने’’ जैसा होगा। ली ने आज इस समाचार एजेंसी से कहा, ‘‘यदि देश के शीर्ष नेता के कार्यकाल की कोई समयसीमा नहीं होगी तो हम एक राजशाही शासन की ओर लौटेंगे।’’ सरकार में सुधारों की वकालत कर चुकी महिला कारोबारी वांग यिंग ने कहा, ‘‘मेरी पीढ़ी ने माओ को देखा है। वह युग खत्म हो गया है। हम इस पर संभावित रूप से वापस कैसे जा सकते हैं?’’ उन्होंने वीचैट पर लिखा कि कम्युनिस्ट पार्टी का प्रस्ताव ‘‘पूरी तरह धोखा’’ और ‘‘धारा के विपरीत’’ है। उन्होंने लिखा, ‘‘मैं जानती हूं कि आप (सरकार) कुछ भी करने का दुस्साहस करेंगे और किसी आम आदमी की आवाज का निश्चित तौर पर कोई फायदा नहीं होगा। लेकिन मैं एक चीनी नागरिक हूं और भागने की मेरी कोई योजना नहीं है। यह मेरी मातृभूमि भी है।’’ नेशनल पीपुल्स कांग्रेस की स्थाई समिति के सूचना विभाग से जुड़े एक अधिकारी ने आज कहा कि उन्हें खुले पत्र के बारे में जानकारी नहीं है।

कांग्रेस अगले महीने अपने वार्षिक सत्र के दौरान संवैधानिक संशोधन को लगभग पारित कर देगी। इस दौरान वह शी जिनपिंग को पांच साल का एक और कार्यकाल देगी तथा नए मंत्रियों और अधिकारियों की नियुक्ति करेगी। चीन के संविधान के तहत कोई भी राष्ट्रपति पांच-पांच साल के कार्यकाल के लिए केवल दो बार ही इस पद पर रह सकता है, लेकिन माओ के बाद देश के सर्वाधिक शक्तिशाली नेता माने जाने वाले शी भ्रष्टाचार से लड़ने, गरीबी हटाने, चीन को एक अग्रणी आधुनिक देश बनाने के अपने एजेंडे के नाम पर अतिरिक्त कार्यकाल चाहते हैं। सरकार और पार्टी प्रवक्ता ने कार्यकाल की अवधि खत्म करने के प्रस्ताव के पीछे के उद्देश्यों के बारे में अभी तक कोई व्यापक व्याख्या नहीं दी है। चीनी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता लु कांग ने कल कहा कि प्रस्ताव नयी स्थिति के अनुरूप और नए युग में चीनी चरित्र के साथ समाजवाद के विकास को बनाए रखने के मद्देनजर लाया गया।

आम चुनाव से जुड़ी ताजा खबरों, लोकसभा चुनाव 2019 की खबरों, चुनावों से जुड़े लाइव अपडेट्स और चुनाव परिणामों के लिए https://hindi.indiatvnews.com/elections पर बने रहें। इसके साथ ही हमें फेसबुक और ट्विटर पर लाइक करके या #ElectionsWithIndiaTV हैशटैग का इस्तेमाल करके 543 लोकसभा सीटें और विधानसभा चुनावों से जुड़े ताजा परिणाम पाएं। आप #ResultsWithRajatSharma हैशटैग का इस्तेमाल करके इंडिया टीवी के चेयरमैन एवं एडिटर-इन-चीफ रजत शर्मा के साथ 23 मई को चुनाव परिणामों की पल-पल की जानकारी हासिल कर सकते हैं।
Web Title: protests against xi jinping term related boundary proposal