Live TV
GO
  1. Home
  2. विदेश
  3. एशिया
  4. इराक पहुंचकर बोले डोनाल्ड ट्रंप, अमेरिका...

इराक पहुंचकर बोले डोनाल्ड ट्रंप, अमेरिका पूरी दुनिया की रखवाली का ठेका नहीं ले सकता

अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने अपने पहले इराक दौरे पर दुनिया में अपने देश की भूमिका को लेकर एक बड़ा बयान दिया है।

IndiaTV Hindi Desk
Edited by: IndiaTV Hindi Desk 27 Dec 2018, 9:35:26 IST

बगदाद: अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने अपने पहले इराक दौरे पर दुनिया में अपने देश की भूमिका को लेकर एक बड़ा बयान दिया है। ट्रंप ने इस यात्रा के दौरान कहा है कि अमेरिका दुनिया की रखवाली का ठेका नहीं ले सकता। उन्होंने कहा कि दूसरे देशों को भी जिम्मेदारी बांटनी चाहिए। इराक में तैनात अमेरिकी सैनिकों से अचानक मिलने पहुंचे ट्रंप ने युद्धग्रस्त सीरिया से अपने सैनिकों को वापस बुलाने के फैसले का बचाव किया और कहा कि इसमें कोई देरी नहीं होगी। उन्होंने कहा कि सारा बोझ हमारे ऊपर ही डालना अच्छी बात नहीं है।

अमेरिकी सैनिकों को संबोधित करने के बाद ट्रंप ने बगदाद के पश्चिम में स्थित एयर बेस पर पत्रकारों से कहा, ‘अमेरिका लगातार दुनिया की रखवाली का ठेका नहीं ले सकता।’ यह अमेरिकी राष्ट्रपति के तौर पर ट्रंप की पहली इराक यात्रा है। वह प्रथम महिला मेलानिया के साथ इराक के औचक दौरे पर पहुंचे। ट्रंप ने कहा कि अगर अमेरिका पर कोई और आतंकवादी हमला हुआ तो इसका ‘करारा जवाब’ दिया जाएगा। उन्होंने सैनिकों से कहा, ‘अगर कुछ भी होता है तो जिम्मेदार लोगों को ऐसे परिणाम भुगतने पड़ेंगे जो कभी किसी ने नहीं भुगते होंगे।’

उन्होंने सीरिया से अपने सैनिकों को वापस बुलाने और बाकी क्षेत्रीय देशों खासकर तुर्की पर इस्लामिक स्टेट के खिलाफ काम पूरा करने की जिम्मेदारी छोड़ने के फैसले का बचाव करते हुए कहा, ‘यह ठीक नहीं है कि सारा बोझ हम पर डाल दिया जाए।’ ट्रंप ने गत सप्ताह विश्व और अपने देश को हैरत में डालते हुए अचानक घोषणा की थी कि अमेरिका, सीरिया से अपने सैनिकों को वापस बुला रहा है। उन्होंने दलील दी कि अब सीरिया में अमेरिका की जरूरत नहीं है क्योंकि इस्लामिक स्टेट को हरा दिया गया है।

India Tv पर देश-विदेश की ताजा Hindi News और स्‍पेशल स्‍टोरी पढ़ते हुए अपने आप को रखिए अप-टू-डेट। Asia News in Hindi के लिए क्लिक करें विदेश सेक्‍शन
Web Title: Donald Trump makes his first visit to US troops in Iraq