Live TV
GO
Hindi News विदेश एशिया भारत, पाक को विशेष दूत भेजने...

भारत, पाक को विशेष दूत भेजने की बीजिंग की योजना के कुरैशी के दावे पर चीन ने साधी चुप्पी

चीन ने पाकिस्तान के विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी के इस दावे पर सोमवार को चुप्पी साधे रखी कि पुलवामा हमले के बाद पाकिस्तान और भारत के बीच तनाव को कम करने के लिए बीजिंग की एक विशेष दूत इन दोनों देशों में भेजने की योजना है।

IndiaTV Hindi Desk
IndiaTV Hindi Desk 04 Mar 2019, 16:53:18 IST

बीजिंग: चीन ने पाकिस्तान के विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी के इस दावे पर सोमवार को चुप्पी साधे रखी कि पुलवामा हमले के बाद पाकिस्तान और भारत के बीच तनाव को कम करने के लिए बीजिंग की एक विशेष दूत इन दोनों देशों में भेजने की योजना है। हालांकि चीन ने यह जरूर कहा कि दोनों देश दोस्ताना बातचीत के जरिये मतभेद सुलझा सकते हैं। पाकिस्तान के मीडिया ने दो मार्च को कुरैशी के हवाले से कहा था कि चीन ने क्षेत्र में तनाव कम करने के प्रयास में एक विशेष दूत को पाकिस्तान और भारत भेजने का फैसला किया है।

कुरैशी के खबरों में आये बयानों के बारे में पूछे जाने पर चीन के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता लू कांग ने कहा, ‘‘हम वाकई उम्मीद करते हैं कि भारत और पाकिस्तान, जो दक्षिण एशिया के दो महत्वपूर्ण देश हैं, दोस्ताना बातचीत के माध्यम से संबंधित मुद्दों को सुलझा सकते हैं।’’ विशेष दूत भेजने की किसी भी योजना का जिक्र किये बिना उन्होंने कहा, ‘‘तनाव कम करने के लिए चीन ने भारत और पाकिस्तान दोनों के साथ करीबी संवाद बनाये रखा है। क्षेत्रीय शांति और स्थिरता के लिए जो भी कारगर होगा, चीन वो सब करने का प्रयास करेगा और हम ऐसा करते रहेंगे।’’

Related Stories

जब पूछा गया कि जिस तरह रूस के विदेश मंत्री सर्गेई लावरोव ने कहा है कि उनका देश भारत और पाकिस्तान के बीच मध्यस्थता की भूमिका निभाने के लिए तैयार है, क्या चीन भी इसी तरह तैयार है, तो लू ने कहा, ‘‘हम तनाव कम करने और इस क्षेत्र में अमन तथा स्थिरता को बढ़ावा देने के लिए कारगर सभी प्रयासों का स्वागत करते हैं।’’ उन्होंने कहा, ‘‘दरअसल हम भारत और पाकिस्तान से करीबी संपर्क में रहे हैं और हम ऐसा करते रहेंगे तथा हितकारी भूमिका निभाते रहेंगे।’’ भारत मानता है कि कश्मीर द्विपक्षीय मुद्दा है और किसी तीसरे पक्ष की मध्यस्थता की जरूरत नहीं है।

India Tv पर देश-विदेश की ताजा Hindi News और स्‍पेशल स्‍टोरी पढ़ते हुए अपने आप को रखिए अप-टू-डेट। Asia News in Hindi के लिए क्लिक करें विदेश सेक्‍शन

More From Asia