Live TV
  1. Home
  2. विदेश
  3. अन्य देश
  4. 10 हजार लोगों के इस देश...

10 हजार लोगों के इस देश के राष्ट्रपति ने चीन से कहा, अपने बुरे बर्ताव के लिए माफी मांगो

नौरु के राष्ट्रपति बैरन वाका ने चीन से कहा है कि वह पैसिफिक आईलैंड फोरम में अपने एक शीर्ष राजनयिक के खराब बर्ताव के लिए उनके देश से माफी मांगे।

IndiaTV Hindi Desk
Edited by: IndiaTV Hindi Desk 06 Sep 2018, 17:05:14 IST

यारेन: एक छोटे-से देश नौरु ने चीन से अपने खराब बर्ताव के लिए माफी की मांग की है। नौरु के राष्ट्रपति बैरन वाका ने चीन से कहा है कि वह पैसिफिक आईलैंड फोरम में अपने एक शीर्ष राजनयिक के खराब बर्ताव के लिए उनके देश से माफी मांगे। वाका ने इसके साथ ही क्षेत्र में चीन की आक्रामक मौजूदगी की आलोचना की। राष्ट्रपति बैरन वाका ने कहा, ‘वह हमारे दोस्त नहीं हैं। उन्हें उनके निजी उद्देश्यों के लिए हमारी जरूरत है।’ आपको बता दें कि सालाना सम्मेलन का समापन नौरु में गुरुवार को हुआ।

वाका ने कहा, ‘माफ कीजिए, लेकिन मुझे इस पर सख्त होने की जरूरत है क्योंकि कोई भी आकर हम पर हुक्म नहीं चला सकता।’ जलवायु परिवर्तन पर सामान्य चर्चा पर चीन के साथ मेजबान की जुबानी लड़ाई हावी हो गई थी। विवाद मंगलवार को शुरू हुआ जब चीन के प्रतिनिधिमंडल के प्रमुख ड्यू क्विवेन ने सभा को संबोधित करने का प्रयास किया लेकिन वाका ने द्वीप के नेताओं का संबोधन समाप्त होने से पहले उन्हें बोलने से रोक दिया। इसके बाद चीन का प्रतिनिधिमंडल नाराज होकर वहां से चला गया।

वाका ने कहा, ‘क्या वह अपने देश के राष्ट्रपति के समक्ष इसी तरह का बर्ताव करते? मुझे तो नहीं लगता। उन्होंने प्रशांत, द्वीप के नेताओं और उन अन्य मंत्रियों का अपमान किया है जो हमारे यहां इस सम्मेलन में शरीक होने आए।’ वाका ने कहा कि हम सिर्फ माफी पर ही नहीं रुकेंगे, बल्कि इस मामले को संयुक्त राष्ट्र तक लेकर जाएंगे। हम इस मामले को हर अंतर्राष्ट्रीय बैठक में उठाएंगे। आपको बता दें कि नौरू एक बेहद ही छोटा देश है जिसका कुल क्षेत्रफल 21 वर्ग किलोमीटर है। यह देश दिल्ली से भी 70 गुना छोटा है जिसका क्षेत्र 1484 वर्ग किलोमीटर है।

India Tv पर देश-विदेश की ताजा Hindi News और स्‍पेशल स्‍टोरी रीड करते हुए अपने आप को रखिए अप-टू-डेट। Around the world News in Hindi के लिए क्लिक करें khabarindiaTv का विदेश सेक्‍शन
Web Title: Nauru president Baron Waqa says, China must apologise for 'arrogance'