Live TV
GO
Hindi News खेल क्रिकेट मुंबई टी20 लीग में भी हुई...

मुंबई टी20 लीग में भी हुई आईपीएल जैसी गड़बड़ी, भड़कें सचिन तेंदुलकर ने दी बल्लेबाजी टीम को सजा देने की नसीहत

मुंबई टी20 लीग के यहां शनिवार को सेमीफाइनल में सोबो सुपरसोनिक्स और आकाश टाइगर्स मुंबई वेस्टर्न सबर्ब के बीच हुए अजीबोगरीब विवाद के बाद तेंदुलकर ने यह टिप्पणी की।

Bhasha
Bhasha 27 May 2019, 7:04:43 IST

मुंबई। महान क्रिकेटर सचिन तेंदुलकर को लगता है कि गेंदबाजी करने वाली टीम की तरह बल्लेबाजी करने वाली टीम को भी मैच के दौरान खेल के नियमों का उल्लघंन करने के लिये सात रन का जुर्माना लगाया जाना चाहिए। 

मुंबई टी20 लीग के यहां शनिवार को सेमीफाइनल में सोबो सुपरसोनिक्स और आकाश टाइगर्स मुंबई वेस्टर्न सबर्ब के बीच हुए अजीबोगरीब विवाद के बाद तेंदुलकर ने यह टिप्पणी की। 

उन्होंने कहा, ‘‘जो भी मैंने देखा, वो मैंने पहली बार देखा है और फिर मैंने सोचना शुरू किया कि क्या किया जा सकता है और यह एक डेड बॉल नहीं हो सकती। लेकिन नियम इस तरह के हैं कि जो कुछ भी हुआ, वो उस समय सही चीज थी। ’’ 

तेंदुलकर ने कहा, ‘‘लेकिन मैं सोच रहा था कि बदलाव के लिये क्या किया जा सकता है जो आने वाले समय में लागू किया जा सकता है और मुझे लगता है कि अगर सर्कल के अंदर तीन क्षेत्ररक्षक हैं तो अंपायर उन्हें कभी नहीं कहता कि आपको चौथा क्षेत्ररक्षक रिंग में लगाने की जरूरत है और अगर नो बॉल होती है और इसके लिये फ्री हिट है। इसलिये क्षेत्ररक्षण करने वाली टीम को इसके लिये जुर्माना लगाया जाता है। ’’ 

उन्होंने कहा, ‘‘लेकिन जब बल्लेबाज अपने छोर पर नहीं पहुंचते तो बल्लेबाजी करने वाली टीम पर जुर्माना क्यों नहीं लगता? मुझे लगता है कि बल्लेबाजी करने वाली टीम को भी सजा मिलनी चाहिए। और एक गेंद पर अधिकतम कितने रन बना सकता है, जो सात रन हैं जिसमें एक पिछली नो बॉल और फ्री हिट पर रन हैं। इसलिये शायद यहां पर बल्लेबाजी करने वाली टीम पर सात रन का जुर्माना लगना चाहिए। ’’ 

शनिवार को 15वें ओवर के अंत में सोबो सुपरसोनिक्स की टीम बिना विकेट गंवाये 158 रन पर थी जब हर्श टैंक को क्रैंप के कारण चिकित्सा लेनी पड़ी। इस ओवर की अंतिम गेंद पर जय बिष्टा ने एक रन लिया लेकिन अगले ओवर के शुरू होने पर किसी भी खिलाड़ी या अंपायर ने महसूस नहीं किया कि टैंक स्ट्राइक छोर पर थे, बिस्टा नहीं। 

गलत स्ट्राइक लेने के बाद टैंक पहली गेंद पर आउट हो गये। अंपायरों को महसूस हुआ कि बल्लेबाजों ने छोर नहीं बदला था तो उन्होंने इसे डेड बॉल करार कर दिया जिससे आकाश टाइगर्स की टीम को विकेट नहीं मिला जबकि गलती पूरी तरह से बल्लेबाजों की थी। तेंदुलकर ने कहा कि यह मैदान के बाहर के मैच अधिकारियों का काम था कि वे मैदानी अंपायरों को इस गलती का आभास कराते।

बता दें कि इस तरह की गलती आईपीएल में भी देखी जा चुकी है जब मैदानी अम्पायर को स्ट्राइक पर कौन सा बल्लेबाज आना है इस बात का बिल्कुल भी होश नहीं था।

India Tv पर देश-विदेश की ताजा Hindi News और स्‍पेशल स्‍टोरी पढ़ते हुए अपने आप को रखिए अप-टू-डेट। Cricket News in Hindi के लिए क्लिक करें खेल सेक्‍शन