Live TV
GO
Hindi News खेल क्रिकेट 3 कारण जिसके चलते आईपीएल इतिहास...

3 कारण जिसके चलते आईपीएल इतिहास में चेन्नई की टीम बनी हुई है सुपर किंग्स

चेन्नई आईपीएल सीज़न 12 के 7 में 6 मैच जीतकर थाला महेंद्र सिंह धोनी की कप्तानी वाली चेन्नई सुपर किंग्स शीर्ष पर विराज़मान है।

India TV Sports Desk
India TV Sports Desk 13 Apr 2019, 17:11:26 IST

इंडियन प्रीमियर लीग ( आईपीएल ) के 12 सालों के इतिहास में चेन्नई सुपर किंग्स का परचम हर साल बुलंदियों पर रहता है। जिसके चलते धाकड़ खिलाडियों से सजी ये टीम तीन बार आईपीएल ख़िताब पर कब्ज़ा कर चुकी है। इतना ही नहीं हर साल टीम आईपीएल के प्लेऑफ में भी पहुंची है। इसकी तर्ज़ पर इस साल भी आईपीएल सीज़न 12 के 7 में 6 मैच जीतकर थाला महेंद्र सिंह धोनी की कप्तानी वाली चेन्नई सुपर किंग्स शीर्ष पर विराज़मान है।
ऐसे में आज हम आपको बताएंगे तीन प्रमुख कारणों के बारें में जो चेन्नई सुपर किंग्स को बनाते है आईपीएल की सबसे मजबूत टीम।

क्या है चेन्नई का ‘सुपर’ फैक्टर 
चेन्नई सुपर किंग्स के नाम में ‘एस’ अक्षर से सुपर होता है लेकिन गौर से देखा जाए तो ‘एस’ से स्पिनर इसे ज्यादा सुपर पॉवर बनातें हैं। चेन्नई सुपर किंग का घरेलू चेपक मैदान स्पिन गेंदबाजों के लिए स्वर्ग माना जाता है। यही कारण है की धोनी की टीम में एक से बढ़ के स्पिन गेंदबाज़ है, जो घरेलू मैदान में टीम को और मजबूती प्रदान करते हैं। इमरान ताहिर, हरभजन सिंह, रवीन्द्र जडेजा, कर्ण शर्मा और मिचेल सैंटनर के साथ गोल्डन आर्म कहे जाने वाले केदार जाधव शामिल है। ये सभी गेंदबाज़ किसी भी तरह की पिच पर बल्लेबाजों को अपनी फिरकी से नचाने में माहिर है। आईपीएल-12 में अभी तक ताहिर ने 7 मैचों में 9 विकेट, हरभजन सिंह ने 4 मैचों में 7 विकेट तो वही रवीन्द्र जडेजा के नाम 7 मैचों में 7 विकेट शामिल है। कुल मिलकर देखा जाए तो चेन्नई सुपर किंग्स के लिए स्पिन गेंदबाज़ ने अब तक 7 मैचों के 70 में से 23 विकेट हासिल किए हैं।

‘ओल्ड वाइन’ की तरह है चेन्नई की बल्लेबाज़ी 

वाइन जितनी पुरानी होती है, वो उतनी ही कीमती होती जाती है। कुछ उसी तरह चेन्नई की बल्लेबाज़ी में एक से बढ़कर एक अनुभवी बल्लेबाज़ शामिल है। जो काफी लम्बे समय से चेन्नई के लिए खेलते आ रहे हैं। सुरेश रैना आईपीएल की शुरुआत से ही चेन्नई सुपरकिंग्स से जुड़े हुए हैं। उन्होंने इस टूर्नामेंट में 5000 से ज़्यादा रन पूरे कर लिए हैं। इसके अलावा टीम में पिछले दो साल से जुड़ें शेन वाट्सन भी लगातार चेन्नई के लिए अच्छा करतें आ रहे हैं। वहीं, टीम इंडिया के लिए विश्वकप 2019 में नम्बर चार के दावेदार माने जा रहे अंबति रायुडू किसी भी क्रम में बल्लेबाज़ी कर चेन्नई की टीम को मजबूती प्रदान करते है। हाल ही में राजस्थान रॉयल्स के खिलाफ खेले गये पिछले मैच में 23 रन पर चार विकेट गिरने के बाद रायुडू ने धोनी के साथ मिलकर 100 रनों की साझेदारी निभाई। जिससे टीम जीतने में कामयाब हुई। फिनिशर की भूमिका में केदार जाधव भी चेन्नई की टीम में अहम रोल अदा करते है। इस तरह ये सभी बल्लेबाज़ किसी भी विरोधी टीम के गेंदबाजों के छक्के छुड़ाने के लिए पर्याप्त है। जिसके चलते चेन्नई सुपर किंग्स आईपीएल की अंकतालिका में टॉप पर बनी हुई है।

थाला धोनी की शानदार कप्तानी 

टीम में भलें ही कितने बड़े-बड़ें दिग्गज़ क्यों ना हो लेकिन टीम का कप्तान ऐसा होना चाहिए जो पूरी टीम को साथ में लेकर चल सके। इस काम को चेन्नई के थाला महेंद्र सिंह धोनी बखूबी से निभा रहे हैं। उन्हें अपनी टीम में हर खिलाड़ी के रोल के बारे में अच्छे से पता होता है। जिसका वो मैच के दौरान मैदान में अच्छे से इस्तेमाल करते हैं। परिणाम यह है कि जब से आईपीएल ( 2008 ) की शुरुआत हुई है तब से धोनी चेन्नई टीम के कप्तान हैं। उन्होंने अपनी इस टीम को हमेशा प्लेऑफ़ में पहुंचाया है। धोनी अपनी कप्तानी में बेबाक और खेल के अनुसार काफी शानदार फैसले लेते हैं। जिसमें उन्हें जीत भी हासिल होती है। इतना ही नहीं इसके अलावा धोनी की कप्तानी में खेलने वाला हर खिलाड़ी खुद को स्वतंत्र महसूस करता है। जिससे वो टीम के लिए अपना शतप्रतिशत दे कर मैच जीताता है। धोनी की कप्तानी के ऐसे ही कुछ ख़ास गुण चेन्नई की टीम को बनाते हैं सुपर किंग्स।

India Tv Hindi पर देश-विदेश की ताजा Hindi News और स्‍पेशल स्‍टोरी पढ़ते हुए अपने आप को रखिए अप-टू-डेट। Cricket News in Hindi के लिए क्लिक करें खेल सेक्‍शन