Live TV
GO
  1. Home
  2. खेल
  3. क्रिकेट
  4. डालमिया का निधन ज़ाती नुकसान: शहरयार...

डालमिया का निधन ज़ाती नुकसान: शहरयार ख़ान

कराची: पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड ने सोमवार को कहा कि BCCI के अध्यक्ष जगमोहन डालमिया के निधन से उसने एक सच्चा दोस्त खो दिया है। एक बयान में PCB के चैयरमैन शहरयार ख़ान, होर्ड के वरिष्ठ

India TV Sports Desk
India TV Sports Desk 06 Oct 2015, 14:54:20 IST

कराची: पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड ने सोमवार को कहा कि BCCI के अध्यक्ष जगमोहन डालमिया के निधन से उसने एक सच्चा दोस्त खो दिया है। एक बयान में PCB के चैयरमैन शहरयार ख़ान, होर्ड के वरिष्ठ अधिकारी नजम सेठी और सुभान अहमद ने डालमिया के परिवार के प्रति गहरी संवेदना व्यक्त की।

शहरयार ने कहा "जगमोहन डालमिया के आकस्मिक निधन से मुझे गहरा सदमा लगा है। मेरी लिए ये ज़ाती नुकसान है क्योंकि वो मेरे दोस्त थे और पाकिस्तान क्रिकेट के हितेषी भी थे।"

उन्होंने कहा "मैं जब पहली बार PCB का चै.रमैन बना था तब से उन्हें जानता था और फिर बाद में ICC में एक साथी के रुप में उनके साथ था। डालमिया की वजह से ही 2004 में कठिन हालात के बावजूद हमने दोनों देशों के बीच सीरीज़ करवाई। 1999 कोलकता टेस्ट के दौरान हुई उस धटना को कौन भूल सकता है जब सचिन के विवादास्पद रन आउट होने के बाद दर्शक उग्र हो गए थे और डालमिया उन्हें शांत कराने सचिन के साथ मैदान में आ गए थे।

शहरयार ने बताया कि ये डालमिया ही थे जिन्होंने कोलकता में BCCI का जुबली मैच खेलने के लिए पाकिस्तान को बुलाया था।  
"उन्होंने मुझसे कहा था कि वो टेस्ट खेलने वाले नौ देशों में से किसी को भी खेलने के लिए बुला सकते हैं लेकिन वह चाहते हैं कि ये एतिहासिक मैच पाकस्तान ही खेले।"

डालमिया के क़रीबी पाकिस्तान के पूर्व  क्रिकेट चीफ एक्ज़ेक्यूटिव आरिफ़ अली अब्बास ने कहा कि उन्हें डालमिया के निधन से धक्का लगा है। हमने मिलकर काम किया और 1987 और 1996 विश्व कप की मेज़बानी दिलवाने में अहम भूमिका निभाई। उन्होंने एशिया को पॉवर हाउस बनाया।"

ये भी पड़ें: बोर्ड दिग्गजों, खिलाड़ियों ने दी डालमिया को श्रद्धांजलि

ये भी पढ़ें: डालमिया जिसने बनाया बोर्ड को रंक से राजा

India Tv पर देश-विदेश की ताजा Hindi News और स्‍पेशल स्‍टोरी पढ़ते हुए अपने आप को रखिए अप-टू-डेट। Cricket News in Hindi के लिए क्लिक करें खेल सेक्‍शन
Web Title: डालमिया का निधन ज़ाती नुकसान: शहरयार ख़ान