Live TV
GO
Hindi News पैसा फायदे की खबर नए खुलने वाले पेट्रोल पंप के...

नए खुलने वाले पेट्रोल पंप के लिए आवेदन हुए शुरू, आप भी ऐसे कर सकते हैं ऐसे एप्‍लाई

सरकारी तेल कंपनियों आईओसी, बीपीसीएल और एचपीसीएल ने विभिन्न राज्यों में पेट्रोल पंप स्थापना के लिए आवेदन मांगने शुरू कर दिए हैं।

Abhishek Shrivastava
Abhishek Shrivastava 04 Dec 2018, 14:06:09 IST

नई दिल्‍ली। मोदी सरकार ने अगले पांच सालों में 56,000 नए पेट्रोल पंप खोलने की घोषणा की है। इस घोषणा के बाद सरकारी तेल कंपनियों आईओसी, बीपीसीएल और एचपीसीएल ने विभिन्‍न राज्‍यों में पेट्रोल पंप स्‍थापना के लिए आवेदन मांगने शुरू कर दिए हैं। तीनों कंपनियों ने पेट्रोल पंप डीलर के लिए आवेदन करने हेतु एक नई वेबसाइट www.petrolpumpdealerchayan.in बनाई है। इस वेबसाइट पर डीलर बनने के लिए आवश्‍यक सभी जरूरतों और योग्‍यताओं के बारे में विस्‍तार से बताया गया है।

इतना ही नहीं इस वेबसाइट पर विभिन्‍न राज्‍यों में पेट्रोल पंप स्‍थापना संबंधि‍त विज्ञापन भी आप देख सकते हैं। पेट्रोल पंप के लिए इस बार ऑनलाइन आवेदन मांगे गए हैं, जो इसी वेबसाइट के जरिये किया जा सकेगा। इसमें ऑनलाइन आवेदन के लिए भी मॉड्यूल दिया गया है।

वेबसाइट पर अधिक जानकारी के लिए विभिन्‍न रीजनल कार्यालयों के पते और फोन नंबर भी उपलब्‍ध कराए गए हैं, जिससे आप अधिकारियों से संपर्क कर पूरी प्रक्रिया को समझ सकते हैं। हिंदी में पेट्रोल पंप डीलर चयन प्रक्रिया पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें। अंग्रेजी में प्रक्रिया जानने के लिए यहां क्लिक करें।

मोदी सरकार ने 24 नवंबर 2018 को तेल कंपनियों को अगले पांच साल के दौरान देश में पेट्रोल पंपों की संख्‍या बढ़ाकर दोगुना करने की अनुमति दी है।

वर्तमान में देश में लगभग 56,000 रिटेल पेट्रोल पंप हैं, जिनका संचालन तीन सार्वजनिक क्षेत्र की तेल मार्केटिंग कंपनियों इंडियन ऑयल कॉरपोरेशन, भारत पेट्रोलियम कॉरपोरेशन लिमिटेड (बीपीसीएल) और हिन्‍दुस्‍तान पेट्रोलियम कॉरपोरेशन लिमिटेड (एचपीसीएल) द्वारा किया जा रहा है। इंडियन ऑयल के 26,982, बीपीसीएल के 15,802 और एचपीसीएल के 12,865 पेट्रोल पंप हैं।सरकार ने यह कदम देश में पेट्रोल और डीजल की बढ़ती मांग को पूरा करने के लिए उठाया है। इसके अलावा, देश में प्राइवेट कंपनियों द्वारा संचालित 6,000 पेट्रोल पंप भी हैं।

उल्‍लेखनीय है कि भारत अपने तेल जरूरत का 83 प्रतिशत हिस्‍सा आयात के जरिये पूरा करता है। पिछले वित्‍त वर्ष में भारत ने 220.43 मिलियन टन क्रूड ऑयल का आयात करने पर 87.7 अरब डॉलर की भारी राशि खर्च की थी।