Live TV
GO
Hindi News पैसा बाजार शेयर बाजार को पसंद नहीं आया...

शेयर बाजार को पसंद नहीं आया बैंकों का विलय! सेंसेक्स डेढ़ महीने के निचले स्तर 37290 पर बंद

सेंसेक्स 294.84 प्वाइंट घटकर 37290.67 पर बंद हुआ जबकि निफ्टी 98.85 प्वाइंट की गिरावट के साथ 11278.90 पर बंद हुआ

Manoj Kumar
Manoj Kumar 18 Sep 2018, 16:45:24 IST

नई दिल्ली। 3 सरकारी बैंकों के विलय का प्लान शेयर बाजार को शायद पसंद नहीं आया है, यही वजह है कि मंगलवार को शेयर बाजार में सरकारी बैंक शेयरों में आई भारी गिरावट की वजह से पूरे बाजार पर दबाव देखने को मिला। बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज का सेंसेक्स और नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का निफ्टी लगातार दूसरे दिन भारी गिरावट के साथ बंद हुआ है। सेंसेक्स 294.84 प्वाइंट घटकर 37290.67 पर बंद हुआ जबकि निफ्टी 98.85 प्वाइंट की गिरावट के साथ 11278.90 पर बंद हुआ। 2 अगस्त के बाद सेंसेक्स और निफ्टी का यह सबसे निचला स्तर है।

विलय की घोषणा से सरकारी बैंकों में बिकवाली

सोमवार को केंद्रीय वित्त मंत्री अरुण जेटली ने 3 सरकारी बैंक यानि बैंक ऑफ बड़ौदा, देना बैंक और विजया बैंक के विलय की घोषणा की है। इस विलय से देना बैंक और विजया बैंक को तो फायदा होता दिख रहा है लेकिन बैंक ऑफ बड़ौदा पर बोझ बढ़ने की आशंका है। इस घोषणा की वजह से आज शेयर बाजार में पीएसयू बैंक इंडेक्स में 5.4 प्रतिशत की भारी गिरावट देखने को मिली है। बैंक ऑफ बड़ौदा का शेयर 17 प्रतिशत से ज्यादा लुढ़का है, इसके अलावा यूनियन बैंक, इंडियन बैंक, केनरा बैंक और सिंडिकेट बैंक के शेयरों में भी भारी गिरावट दर्ज की गई है। हालांकि देना बैंक के शेयर में 19 प्रतिशत से ज्यादा का उछाल दर्ज किया गया है।

सरकारी बैंकों के अलावा इन सेक्टर पर भी दबाव

मंगलवार को बाजार में पीएसयू बैंक इंडेक्स के अलावा रियल्टी, मीडिया, मेटल, ऑटो, और फाइनेंशियल सर्विसेज इंडेक्स में भी भारी गिरावट आई है, सिर्फ एफएमसीजी इंडेक्स बढ़त के साथ बंद हुआ है। शेयरों की बात करें तो निफ्टी पर 50 में से 41 और सेंसेक्स पर 30 में से 26 कंपनियों में गिरावट दर्ज की गई है।

निफ्टी पर सबसे ज्यादा घटने वाले शेयर

निफ्टी पर घटने वाली कंपनियों में सबसे आगे स्टेट बैंक ऑफ इंडिया, इंडियाबुल हाउसिंग, टाटा मोटर्स, हिंदुस्तान पेट्रोलियम, बजाज ऑटो, एक्सिस बैंक, जी एंटरटेनमेंट, इंडियन ऑयल, हिंडाल्को, आसर मोटर्स और भारती एयरटेल के शेयर रहे। रुपए में फिर से लौटी भारी गिरावट की वजह से ऑयल मार्केटिंग कंपनियों के शेयरों पर भी दबाव लौटा है।

More From Market