Live TV
GO
  1. Home
  2. पैसा
  3. बाजार
  4. BSE की टॉप10 कंपनियों के बाजार...

BSE की टॉप10 कंपनियों के बाजार पूंजीकरण में एक लाख करोड़ रुपए से ज्यादा की गिरावट, TCS को सबसे अधिक नुकसान

शेयर बाजार में सूचीबद्ध 10 शीर्ष कंपनियों का बाजार पूंजीकरण पिछले हफ्ते 1,11,986.87 करोड़ रुपए घट गया। पिछले हफ्ते बीएसई सेंसेक्स में 1,060.99 अंक यानी 3.02% की तीव्र गिरावट दर्ज की गई जिसके चलते कंपनियों का बाजार पूंजीकरण तेजी से घटा।

Manish Mishra
Edited by: Manish Mishra 11 Feb 2018, 14:08:43 IST

नई दिल्ली शेयर बाजार में सूचीबद्ध 10 शीर्ष कंपनियों का बाजार पूंजीकरण पिछले हफ्ते 1,11,986.87 करोड़ रुपए घट गया। पिछले हफ्ते बीएसई सेंसेक्स में 1,060.99 अंक यानी 3.02% की तीव्र गिरावट दर्ज की गई जिसके चलते कंपनियों का बाजार पूंजीकरण तेजी से घटा। इस गिरावट की प्रमुख वजह शेयर बाजारों में निवेश पर दीर्घावधि पूंजीगत लाभ पर प्रस्तावित कर और वैश्विक बाजारों की उथल-पुथल को माना जा रहा है। देश की सबसे ज्यादा बाजार पूंजीकरण (एमकैप) वाली कंपनी टाटा कंसल्टेंसी सविर्सेस (TCS) का मार्केट कैप पिछले हफ्ते 33,854.18 करोड़ रुपए घटकर 5,68,983.70 करोड़ रुपए रह गया।

इसी प्रकार एचडीएफसी बैंक के बाजार पूंजीकरण में 24,935.67 करोड़ रुपए की गिरावट दर्ज की गई और यह 4,80,206 करोड़ रुपए दर्ज किया गया। एचडीएफसी का मार्केट कैप भी 20,733.18 करोड़ रुपए घटकर 2,83,336.41 करोड़ रुपए रहा है।

हिंदुस्तान युनिलीवर का मार्केट कैप 8,073.5 करोड़ रुपए घटकर 2,89,044.47 करोड़ रुपए, इंफोसिस का 6,514.19 करोड़ रुपए घटकर 2,42,827.36 करोड़ रुपए और ओएनजीसी का 6,031.62 करोड़ रुपए घटकर 2,40,943.99 करोड़ रुपए हो गया। रिलायंस इंडस्ट्रीज का मार्केट कैप 4,908.95 करोड़ रुपए गिरकर 5,68,773.21 करोड़ रुपए रहा है। आईटीसी का बाजार पूंजीकरण 4,877.27 करोड़ रुपए घटकर 3,30,800.77 करोड़ रुपए रहा है।

इसी प्रकार मारुति सुजुकी का मार्केट कैप 1,626.7 करोड़ रुपए गिरकर 2,70,254.42 करोड़ रुपए और भारतीय स्टेट बैंक का 431.61 करोड़ रुपए घटकर 2,55,854.07 करोड़ रुपए रहा। बाजार पूंजीकरण के हिसाब से रैंकिंग में टीसीएस शीर्ष पर रही और उसके बाद क्रमश: रिलायंस इंडस्ट्रीज, एचडीएफसी बैंक, आईटीसी, हिंदुस्तान युनिलीवर, एचडीएफसी, मारुति, भारतीय स्टेट बैंक, इंफोसिस और ओएनजीसी का स्थान रहा।

Web Title: BSE की टॉप10 कंपनियों के बाजार पूंजीकरण में एक लाख करोड़ रुपए से ज्यादा की गिरावट