Live TV
GO
  1. Home
  2. पैसा
  3. बाजार
  4. एचडीएफसी समूह का बाजार पूंजीकरण 10,000...

एचडीएफसी समूह का बाजार पूंजीकरण 10,000 अरब रुपये के पार, टाटा के बाद बना दूसरा सबसे बड़ा समूह

दीपक पारेख के नेतृत्व वाले एचडीएफसी फाइनेंशियल सर्विसेज ग्रुप की सूचीबद्ध कंपनियों का बाजार पूंजीकरण (मार्केट कैप) मंगलवार को 10 लाख करोड़ रुपए के पार पहुंच गया। टाटा समूह के बाद यह दूसरा कंपनी समूह है जिसका बाजार पूंजीकरण इस आंकड़े के पार पहुंचा है।

Manish Mishra
Edited by: Manish Mishra 10 Jul 2018, 20:35:39 IST

नई दिल्ली। दीपक पारेख के नेतृत्व वाले एचडीएफसी फाइनेंशियल सर्विसेज ग्रुप की सूचीबद्ध कंपनियों का बाजार पूंजीकरण (मार्केट कैप) मंगलवार को 10 लाख करोड़ रुपए के पार पहुंच गया। टाटा समूह के बाद यह दूसरा कंपनी समूह है जिसका बाजार पूंजीकरण इस आंकड़े के पार पहुंचा है। एचडीएफसी समूह में इस समय चार सूचीबद्ध कंपनियां शामिल हैं। हाउसिंग फाइनेंस सेक्‍टर की प्रमुख कंपनी एचडीएफसी लिमिटेड, बैंकिंग क्षेत्र की अग्रणी कंपनी एचडीएफसी बैंक, जीवन बीमा क्षेत्र की एचडीएफसी स्टैंडर्ड लाइफ और ग्रह फाइनेंस इस समूह में शामिल हैं। दूसरी तरफ टाटा समूह की करीब 30 कंपनियां शेयर बाजार में सूचीबद्ध हैं।

एचडीएफसी समूह की एक अन्य कंपनी एचडीएफसी म्यूचुअल फंड भी इस समय बाजार में सूचीबद्ध होने की प्रक्रिया में है और वह अपना आईपीओ लाने जा रही है। यह आईपीओ बाजार में आ जाने के बाद समूह की पांच कंपनियां पूंजी बाजार में हो जाएंगी। पर्यवेक्षकों के मुताबिक म्यूचुअल फंड कंपनी का बाजार पूंजीकरण 30,000 करोड़ रुपए के आसपास रहने की उम्मीद है।

शेयर बाजारों में आज कारोबार की समाप्ति पर एचडीएफसी बैंक का बाजार पूंजीकरण 5,59,633.53 करोड़ रुपए, एचडीएफसी लिमिटेड का 3,26,776.81 करोड़ रुपए, एचडीएफसी स्टैंडर्ड लाइफ इंश्योरेंस कंपनी का 95,936.72 करोड़ रुपए और ग्रह फाइनेंस का बाजार पूंजीकरण 24,967.71 करोड़ रुपए रहा।

टाटा समूह की सूचीबद्ध कंपनियों का कुल बाजार पूंजीकरण करीब 11 लाख करोड़ रुपए के आसपास है। टाटा कंसल्टेंसी सविर्सिज (टीसीएस) देश की सबसे बड़ी बाजार पूंजीकरण वाली कंपनी है। इसका बाजार पूंजीकरण 7,18,623.56 करोड़ रुपए है। एचडीएफसी समूह में एचडीएफसी बैंक बाजार पूंजीकरण के लिहाज से देश की तीसरी सबसे मूल्यावान कंपनी है।

Web Title: एचडीएफसी समूह का बाजार पूंजीकरण 10,000 अरब रुपये के पार, टाटा के बाद बना दूसरा सबसे बड़ा समूह