Live TV
  1. Home
  2. पैसा
  3. बिज़नेस
  4. मुद्रास्फीति के ऊपर जाने का जोखिम...

मुद्रास्फीति के ऊपर जाने का जोखिम कायम, जुलाई में CPI 5.7 से 5.9 फीसदी रहेगी

महंगाई दर के ऊपर जाने का जोखिम कायम है।अंतरराष्ट्रीय स्तर पर जिंस कीमतों में बढ़ोतरी तथा 7वें वेतन आयोग के क्रियान्वयन की वजह से मुद्रास्फीति ऊपर जाएगी।

Dharmender Chaudhary
Dharmender Chaudhary 25 Jul 2016, 18:30:00 IST

नई दिल्ली। महंगाई के ऊपर जाने का जोखिम कायम है। डन एंड ब्रैडस्ट्रीट की एक रिपोर्ट में कहा गया है कि अंतरराष्ट्रीय स्तर पर कमोडिटी की कीमतों में बढ़ोतरी और सातवें वेतन आयोग के लागू होने की वजह से महंगाई दर ऊपर जाएगी। इसमें अनुमान लगाया गया है कि जुलाई माह की उपभोक्ता मूल्य सूचकांक आधारित मुद्रास्फीति (सीपीआई) 5.7 से 5.9 फीसदी के बीच रहेगी।

डन एंड ब्रैडस्ट्रीट इंडिया के प्रमुख अर्थशास्त्री अरुण सिंह ने कहा, महंगाई दर में बुनियादी मुद्दे कायम हैं। ग्रामीण सीपीआई मुद्रास्फीति औसत आधार पर शहरी सीपीआई मुद्रास्फीति से ऊपर रहेगी। रिपोर्ट में कहा गया है कि दो महीनों में मानसून की प्रगति से फसल की स्थिति और उपलब्धता तय होगी और इससे आगामी वित्त वर्ष की खाद्य मुद्रास्फीति का अनुमान लगेगा।

सिंह ने कहा, ला नीना प्रभाव के बारे में खबर से कुछ खुशी मिली, लेकिन खाद्य मुद्रास्फीति के 23 माह के उच्च स्तर पर पहुंचने से कुछ चिंता पैदा हुई है। डन एंड ब्रैडस्ट्रीट का अनुमान है कि थोक मूल्य सूचकांक आधारित मुद्रास्फीति जुलाई में 1.8 से 2 फीसदी रहेगी जबकि उपभोक्ता मूल्य सूचकांक आधारित मुद्रास्फीति 5.7 से 5.9 फीसदी के बीच रहेगी।

यह भी पढ़ें- रिटेल महंगाई और भड़कने की संभावना, HSBC ने CPI के 6% से अधिक रहने का लगाया अनुमान

यह भी पढ़ें- अप्रैल-दिसंबर में दलहन आयात बढ़कर 50 लाख टन होने की संभावना, प्राइवेट ट्रेडर्स करेंगे सबसे ज्यादा आयात

Web Title: महंगाई दर के ऊपर जाने का जोखिम कायम