Live TV
GO
Hindi News पैसा बिज़नेस सैमसंग ने बदली रणनीति, अब सस्‍ते...

सैमसंग ने बदली रणनीति, अब सस्‍ते फोन के बाजार में हिस्सेदारी बढ़ाने पर होगा जोर

दक्षिण कोरिया की प्रमुख इलेक्ट्रॉनिक्स कंपनी सैमसंग अब अपने सस्‍ते स्मार्टफोन में भी नई रिसर्च को शामिल करेगी। अभी तक कंपनी अपने हाईएंड फोन में नई तकनीक का इस्‍तेमाल करती थी।

India TV Paisa Desk
India TV Paisa Desk 23 Aug 2018, 20:24:42 IST

नई दिल्ली। दक्षिण कोरिया की प्रमुख इलेक्ट्रॉनिक्स कंपनी सैमसंग अब अपने सस्‍ते स्मार्टफोन में भी नई रिसर्च को शामिल करेगी। अभी तक कंपनी अपने हाईएंड फोन में नई तकनीक का इस्‍तेमाल करती थी। लेकिन अब कंपनी ने व्यापक इस्तेमाल वाले और मध्यम मूल्य श्रेणी वाले फोनों के लिए अपनी रणनीति बदल दी है। अब कंपनी अपनी नई रिसर्च को सिर्फ प्रीमियम फ्लैगशिप तक के लिए सीमित नहीं रखा है। सैमसंग मोबाइल के प्रमुख डीजे कोह ने आज यह जानकारी दी है।

सैमसंग भारत को अपने प्रमुख बाजारों में से एक मानती है। वह भारतीय स्मार्टफोन बाजार में आगे जाने के लिए चीन की शियोमी के साथ जोरदार प्रतिस्पर्धा कर रही है और वह विकास के अगले चरण में जाने के लिए 5-जी और इंटरनेट ऑफ थिंग्स (आईओटी) पर भी दाव लगा रही है। कोह ने यहां संवाददाताओं से कहा, "प्रमुख मॉडलों में, हम भारतीय बाजार में काफी मजबूत और प्रभावशाली स्थिति में हैं, लेकिन मध्य और सामूहिक खंड में प्रतिस्पर्धा बहुत कठिन है। यही कारण है कि इस फरवरी के शुरू में, मैंने रणनीति बदल दी।" ।

लॉन्‍च किया नया गैलेक्‍सी नोट 9

इस प्रमुख इलेक्ट्रॉनिक्स की कंपनी ने आज भारत में अपने नवीनतम फ्लैगशिप 'नोट 9' का अनावरण किया। इस हैंडसेट को इस महीने की शुरुआत में न्यूयॉर्क में पेश किया गया था इसकी कीमत 67,900 रुपये होगी और इसकी बिक्री 24 अगस्त से शुरू होगी। कोह ने कहा कि 5-जी के आने से उत्पन्न होने वाले अवसरों को लेकर वह उत्साहित हैं।

5 जी के लिए तैयार है सैमसंग

उन्होंने कहा, "जब 5-जी आयेगा ... हमें स्मार्टफोन कारोबार को भिन्न तरीके से देखने की आवश्यकता होगी। 5-जी युग के दौरान स्मार्ट फोन केंद्र में होंगे ... हम 5 जी युग के बारे में बहुत उत्साहित हैं।" कोह ने स्मार्ट शहरों, शिक्षा और स्वास्थ्य देखभाल जैसे क्षेत्रों में सरकार और भारत के अन्य भागीदारों के साथ कंपनी की भागीदारी के बारे में भी बात की और कहा कि उनका इरादा "भारत में काम करने वाली वैश्विक कंपनी नहीं बल्कि भारतीय कंपनी बनना" है।

More From Business