Live TV
GO
Hindi News पैसा बिज़नेस दादा-नाना बनने से पहले ही मुकेश...

दादा-नाना बनने से पहले ही मुकेश अंबानी ने खरीदी खिलौने की कंपनी, RIL करेगी हैमलेज का 620 करोड़ रुपए में अधिग्रहण

रिलायंस इंडस्ट्रीज की सब्सिडियरी रिलायंस ब्रांड्स लिमिटेड ने ब्रिटेन की खिलौना कंपनी हैमलेज ग्लोबल होल्डिंग्स लिमिटेड का 6.79 करोड़ पौंड (लगभग 620 करोड़ रुपए) में अधिग्रहण करने की घोषणा की है।

India TV Paisa Desk
India TV Paisa Desk 10 May 2019, 11:32:35 IST

नई दिल्‍ली। भारत के सबसे अमीर व्‍यक्ति और सबसे मूल्‍यवान कंपनी रिलायंस इंडस्‍ट्रीज के चेयरमैन व प्रबंध निदेशक मुकेश अंबानी ने दादा और नाना बनने से पहले ही खिलौने की कंपनी को खरीद लिया है। उल्‍लेखनीय है कि पिछले साल मुकेश अंबानी की बेटी ईशा अंबानी की शादी आनंद पिरामल के साथ हुई हैं। इसके बाद दिसंबर 2018 में उनके बड़े बेटे आकाश अंबानी की शादी श्‍लोका मेहता के साथ संपन्‍न हुई है।

परिवार में आने वाले नए मेहमानों के लिए मुकेश अंबानी का यह अच्‍छा तोहफा होगा। रिलायंस इंडस्‍ट्रीज की सब्सिडियरी रिलायंस ब्रांड्स लिमिटेड ने ब्रिटेन की खिलौना कंपनी हैमलेज ग्‍लोबल होल्डिंग्‍स लिमिटेड का 6.79 करोड़ पौंड (लगभग 620 करोड़ रुपए) में अधिग्रहण करने की घोषणा की है। वर्तमान में हैमलेज का स्‍वामित्‍व चीन की फैशन कंपनी सी बैनर इंटरनेशनल के पास है। सी बैनर इंटरनेशनल ने 2015 में 10 करोड़ पौंड में खरीदा था। हैमलेज पिछले कुछ सालों से घाटे में चल रही है।

कंपनी ने अपने एक बयान में कहा है कि रिलायंस ब्रांड्स और सी बैनर इंटरनेशनल होल्डिंग्‍स ने गुरुवार को एक बाध्‍यकारी समझौते पर हस्‍ताक्षर किए हैं। रिलायंस ब्रांड्स, हैमलेज ग्‍लोबल होल्डिंग्‍स लिमिटेड की 100 प्रतिशत हिस्‍सेदारी का अधिग्रहण करेगी। हैमलेज का स्‍वामित्‍व हांगकांग में लिस्‍टेड सी बैनर इंटरनेशनल होल्डिंग्‍स के पास है। इसके 18 देशों में 167 स्‍टोर हैं। भारत में रिलायंस हैमलेज की मास्‍टर फ्रेंचाइजी है और फ‍िलहाल 29 शहरों में 88 स्‍टोर्स का परिचालन करती है।

रिलायंस ब्रांड्स के अ‍ध्‍यक्ष एवं मुख्‍य कार्यकारी अधिकारी (सीईओ) दर्शन मेहता ने कहा कि वैश्विक स्‍तर पर प्रसिद्ध हैमलेज ब्रांड और कारोबार के अधिग्रहण से रिलायंस वैश्विक रिटेल खिलौना इंडस्‍ट्री में एक प्रकुख खिलाड़ी बन सकेगी। उन्‍होंने कहा कि व्‍यक्तिगत रूप से यह मेरे लिए एक सपने के पूरे होने जैसा है।

मेहता ने कहा कि पिछले कुछ साल के दौरान हमने भारत में हैमलेज ब्रांड के तहत एक उल्‍लेखनीय और मुनाफे वाला खिलौने का रिटेल कारोबार बनाया है। उन्‍होंने कहा कि 250 साल पुरानी इस ब्रिटिश खिलौना रिटेलर ने खुदरा की अवधारणा को आगे बढ़ाया था, जबकि उसके दशकों के बाद ही परंपरागत स्‍टोर या दुकाने लोकप्रिय हुईं।

More From Business