Live TV
GO
Hindi News पैसा बिज़नेस मानसून सीजन का डेढ़ महीना पूरा...

मानसून सीजन का डेढ़ महीना पूरा लेकिन 100 से ज्यादा जिले बारिश को तरसे!

देश में मानसून सीजन को शुरू हुए लगभग डेढ़ महीना हो चुका है. लेकिन इसके बावजूद देख के कई हिस्से ऐसे हैं जहां अब भी बारिश का इंतजार हो रहा है। भारतीय मौसम विभाग के मुताबिक देशभर में 103 जिले ऐसे हैं जहां अबतक बीते मानसून सीजन यानि पहली जून से लेकर 14 जुलाई के दौरान बारिश की कमी 50 प्रतिशत या इससे ज्यादा दर्ज की गई है

Manoj Kumar
Manoj Kumar 15 Jul 2018, 11:46:42 IST

नई दिल्ली। देश में मानसून सीजन को शुरू हुए लगभग डेढ़ महीना हो चुका है. लेकिन इसके बावजूद देख के कई हिस्से ऐसे हैं जहां अब भी बारिश का इंतजार हो रहा है। भारतीय मौसम विभाग के मुताबिक देशभर में 103 जिले ऐसे हैं जहां अबतक बीते मानसून सीजन यानि पहली जून से लेकर 14 जुलाई के दौरान बारिश की कमी 50 प्रतिशत या इससे ज्यादा दर्ज की गई है।

मौसम विभाग के आंकड़ों के मुताबिक सबसे खराब हालात उत्तर प्रदेश और बिहार में हैं, उत्तर प्रदेश में 36 जिले ऐसे हैं जहां पर बारिश की कमी 50 प्रतिशत या इससे ज्यादा है जबकि बिहार में 19 जिले ऐसे हैं जहां बहुत कम बरसात हुई है। इनके अलावा पूर्वोत्तर राज्य, झारखंड और गुजरात में भी कई जिले ऐसे हैं जहां सामान्य के मुकाबले कम बरसात दर्ज की गई है।

मौसम विभाग के मुताबिक अबतक बीते मानसून सीजन के दौरान देशभर में सामान्य के मुकाबले 6 प्रतिशत बरसात दर्ज की गई है, अबतक देशभर में औसतन 272.7 मिलीमीटर बरसात हुई है जबकि सामान्य तौर पर इस दौरान देश में 289.5 मिलीमीटर बारिश दर्ज की जाती है। मौसम विभाग के मुताबिक अबतक उत्तर प्रदेश में सामान्य के मुकाबले 41 प्रतिशत कम, बिहार में 38 प्रतिशत कम और झारखंड में भी 41 प्रतिशत कम बरसात दर्ज की गई है।

जून और जुलाई की शुरुआत में देशभर में हुई कम बरसात की वजह से खरीफ फसलों की खेती प्रभावित हुई है। केंद्रीय कृषि मंत्रालय की तरफ से जारी किए गए बुआई आंकड़ों के मुताबिक 13 जुलाई तक देशभर में खरीफ बुआई पिछले साल के मुकाबले करीब 10 प्रतिशत पिछड़ी हुई दर्ज की गई है। कृषि मंत्रालय के मुताबिक 13 जुलाई तक देशभर में लगभग 501.67 लाख हेक्टेयर में खरीफ फसलों की खेती हुई है जबकि पिछले साल इस दौरान देश में 557.49 लाख हेक्टेयर में फसल लग चुकी थी। कपास, मोटे अनाज और दलहन की खेती सबसे ज्यादा प्रभावित हुई है।