Live TV
GO
  1. Home
  2. पैसा
  3. बिज़नेस
  4. पीएम के भाषण में नोटबंदी के...

पीएम के भाषण में नोटबंदी के बाद के आंकड़े आरबीआई के नहीं, CBDT और राजस्‍व विभाग को मिले जवाबों पर आधारित : जेटली

वित्त मंत्री अरुण जेटली ने कहा कि नोटबंदी के बाद बैंकों में बेहिसाबी धन जमा कराने वालों की जांच और नोटिस कालेधन के बारे में सूचना जुटाने के स्रोत हैं।

Manish Mishra
Manish Mishra 17 Aug 2017, 11:43:43 IST

नई दिल्ली। वित्त मंत्री अरुण जेटली ने कहा कि नोटबंदी के बाद बैंकों में बेहिसाबी धन जमा कराने वालों की जांच और नोटिस कालेधन के बारे में सूचना जुटाने के स्रोत हैं। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने स्वतंत्रता दिवस पर अपने भाषण में इसका उल्लेख किया था। प्रधानमंत्री के भाषण में कालेधन के आंकड़े पर पूछे जाने पर वित्त मंत्री ने कहा कि राजस्व विभाग के आंकड़े और संभावित राजस्व लाभ के आंकड़े मौजूदा जांच, नोटिस, केंद्रीय प्रत्यक्ष कर बोर्ड (CBDT) और राजस्व विभाग को मिले जवाब पर आधारित हैं। जेटली ने कहा कि जिन आंकड़ों का उल्लेख किया गया है वे रिजर्व बैंक की रिपोर्ट पर निर्भर नहीं हैं।

यह भी पढ़ें : बोथीज तकनीक वाले डुअल कैमरे से लैस नोकिया 8 स्‍मार्टफोन हुआ लॉन्‍च, अक्‍टूबर से भारत में शुरू होगी बिक्री

उन्होंने कहा कि इन आंकड़ों को लेकर किसी तरह का भ्रम नहीं है। इसका वास्तविक स्रोत यह है कि कितना धन जमा हुआ, कितने धन का कोई हिसाब-किताब नहीं है, कितने लोगों ने ऐसा पैसा जमा कराया है जो उनकी आय से अधिक है, कितने लोगों को नोटिस भेजा गया है और नोटिस का दायरा क्या है। यह आंकड़ा इन्हीं सब चीजों पर आधारित है। मोदी ने अपने भाषण में कहा था कि नोटबंदी के बाद छिपा कालाधन औपचारिक अर्थव्यवस्था में लौटा है।

यह भी पढ़ें : पेट्रोल पंपों पर LED बल्‍ब, दवा और किराने के सामान बेचकर सरकार बढ़ाएगी अपनी कमाई

स्‍वतंत्रता दिवस के अपने भाषण में प्रधानमंत्री ने कहा था कि बैंकों में जम 1.75 लाख करोड़ रुपए से अधिक की राशि जांच के घेरे में है और दो लाख करोड़ रुपए का कालाधन बैंकों में जमा कराना पड़ा था। मोदी ने अपने संबोधन में कहा था कि 18 लाख ऐसे लोगों की पहचान की गई है जिनकी आय उनके द्वारा घोषित आय से कहीं अधिक हैं। उन्हें इसके बारे में स्पष्टीकरण देना होगा।

यह भी पढ़ें : किसानों को बैंकों से 7 फीसदी की घटी हुई दर पर मिलेगा फसल ऋण, आधार नंबर देना होगा जरूरी

Web Title: नोटबंदी के बाद के आंकड़े विभागों को मिले जवाबों पर आधारित : जेटली