Live TV
  1. Home
  2. पैसा
  3. बिज़नेस
  4. भारत में हर दो में से...

भारत में हर दो में से एक व्‍यक्ति नहीं जानता Apple ब्रांड को

आईफोन और आईपैड बनाने वाली कंपनी Apple दुनियाभर में प्रसिद्ध एक मजबूत ब्रांड है, लेकिन भारत में आधे से अधिक जनसंख्‍या इसके बारे में अनजान है।

Dharmender Chaudhary
Dharmender Chaudhary 24 Apr 2016, 8:08:00 IST

नई दिल्‍ली। आईफोन और आईपैड बनाने वाली कंपनी Apple दुनियाभर में प्रसिद्ध एक मजबूत ब्रांड है, लेकिन यहां कुछ ऐसे देश भी हैं जहां एप्‍पल को हर कोई नहीं जानता है। ऐसे देशों की लिस्‍ट में भारत का नाम भी शामिल है। मोर्गन स्‍टेनली की रिपोर्ट के मुताबिक भारत में आधी से अधिक जनसंख्‍या आईफोन के बारे में अनजान है। मोर्गन स्‍टेनली के कैट ह्यूबर्टी और उनकी टीम द्वारा किए गए एक सर्वे में यह निष्‍कर्ष निकला है कि भारत में एप्‍पल ब्रांड के बारे में बहुत कम लोगों को जानकारी है। सर्वे में कहा गया है कि डिस्‍ट्रीब्‍यूशन का विस्‍तार और बड़े स्‍तर पर मार्केटिंग के जरिये भारत में इस ब्रांड को प्रसिद्धी दिलाई जा सकती है।

सर्वे रिपोर्ट में कहा गया है कि एप्‍पल भारत में अपने ब्रांड को खड़ा करने के शुरुआती चरण में है। सर्वे में शामिल आधे से अधिक लोग एप्‍पल के बारे में नहीं जानते थे। वास्‍तव में, दुनिया के दूसरी सबसे बड़ी जनसंख्‍या वाले देश भारत में कंज्‍यूमर इलेक्‍ट्रॉनिक्‍स ब्रांड लिस्‍ट में एप्‍पल का स्‍थान दसवां हैं। एप्‍पल केवल सैमसंग, माइक्रोसॉफ्ट और सोनी से ही पीछे नहीं है, बल्कि यह स्‍थानीय ब्रांड जैसे माइक्रोमैक्‍स और कार्बन से भी पीछे है।

ग्रोथ के लिए अच्‍छा अवसर

रिपोर्ट में कहा गया है कि यदि एप्‍पल मार्केटिंग और डिस्‍ट्रीब्‍यूशन पर भारी खर्च करना शुरू कर दे तो यहां ग्रोथ के लिए उसके पास बहुत बड़ी संभावना है। एप्‍पल के सीईओ टिम कुम और अन्‍य एग्‍जीक्‍यूटिव यह पहले ही यह कह चुके हैं कि ग्रोथ के लिए भारत उनके लिए दूसरा सबसे बड़ा मार्केट है।

तस्‍वीरों में देखिए आईफोन एसई को किससे है मुकाबला

iPhone SE competitors

IndiaTV Paisa

IndiaTV Paisa

IndiaTV Paisa

IndiaTV Paisa

IndiaTV Paisa

एप्‍पल स्‍टोर खोलने की मिली मंजूरी

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक शुक्रवार को सरकार ने एप्‍पल को देश में स्‍वयं के सिंगल ब्रांड रिटेल स्‍टोर खोलने की मंजूरी दे दी है। एप्‍पल ने देश में स्‍टोर खोलने के लिए स्‍थानीय स्‍तर पर खरीद के आवश्‍यक नियम से छूट मांगी थी। कंपनी का कहना है कि उसके उत्पाद अत्याधुनिक और नवीनतम तकनीक से लैस उत्पादों का निर्माण करती है और इसलिए स्थानीय स्तर पर खरीद करना कंपनी के लिए मुमकिन नहीं है।

भारत पर फोकस के लिए नई रणनीति

पिछले कुछ सालों से चीन एप्‍पल का ग्रोथ इंजन बना हुआ था लेकिन अब वहां स्‍मार्टफोन की बिक्री स्थिर होने और सरकार के साथ संबंध बिगड़ने से अब एप्‍पल को अपने आईफोन की बिक्री के लिए नए बड़े बाजार की जरूरत है। भारत एक बड़ा बाजार हो सकता है, लेकिन एप्‍पल को इसके लिए सबसे पहले भारतीयों को अपने प्रोडक्‍ट के बारे में जागरूक बनाना होगा। इसके लिए कंपनी कई नई रणनीति अपना रही है। हालही में एप्‍पल ने आईफोन को लीज पर देने की स्‍कीम लॉन्‍च की है। इसके तहत कॉरपोरेट कंज्‍यूमर को आसान मासिक किस्‍त पर आईफोन 6, आईफोन 6 एस और हाल ही में लॉन्‍च आईफोन एसई उपलब्‍ध कराया जा रहा है। इसके अलावा एप्‍पल ने भारत में रिफर्बिश्‍ड यूज्‍ड फोन सस्‍ती कीमत पर भी बेचने की योजना बनाई है। मोर्गन स्‍टेनली का मानना है कि एप्‍पल के लिए यह रणनीति सही साबित हो सकती है।

Web Title: भारत में हर दो में से एक व्‍यक्ति नहीं जानता Apple ब्रांड को