Live TV
GO
Hindi News पैसा बिज़नेस जेट एयरवेज को तीसरी तिमाही में...

जेट एयरवेज को तीसरी तिमाही में हुआ 587 करोड़ रुपए का घाटा, निदेशक मंडल ने दी कर्ज समाधान योजना को मंजूरी

जेट एयरवेज ने गुरुवार को कहा कि उसके निदेशक मंडल ने बैंक की अगुवाई में कर्ज समाधान योजना (बीएलआरपी) को मंजूरी दे दी है। इसके तहत कर्जदाताओं के कर्ज को इक्विटी शेयर में बदला जाएगा।

India TV Paisa Desk
India TV Paisa Desk 14 Feb 2019, 20:23:47 IST

नई दिल्ली। नकदी संकट का सामना कर रही विमानन कंपनी जेट एयरवेज को 31 दिसंबर को समाप्त तीसरी तिमाही में एकल आधार पर 587.77 करोड़ रुपए का एकल शुद्ध घाटा हुआ है। पिछले वित्त वर्ष की अक्टूबर-दिसंबर तिमाही में उसे 165.25 करोड़ रुपए का मुनाफा हुआ था। 

जेट एयरवेज ने शेयर बाजार को दी सूचना में कहा कि समीक्षाधीन अवधि में उसकी परिचालन आय 6,147.98 करोड़ रुपए रही, जो एक साल पहले की तीसरी तिमाही में 6,086.20 करोड़ रुपए थी। इस दौरान कंपनी का कुल खर्च 2017-18 की तीसरी तिमाही में 6,042.58 करोड़ रुपए से बढ़कर 2018-19 की इसी तिमाही में 6,786.15 करोड़ रुपए हो गया। 

अब कंपनी में कर्जदाता होंगे सबसे बड़े शेयरधारक 

निजी क्षेत्र की एयरलाइन जेट एयरवेज ने गुरुवार को कहा कि उसके निदेशक मंडल ने बैंक की अगुवाई में कर्ज समाधान योजना (बीएलआरपी) को मंजूरी दे दी है। इसके तहत कर्जदाताओं के कर्ज को इक्विटी शेयर में बदला जाएगा। इससे वे एयरलाइन के सबसे बड़े शेयरधारक बन जाएंगे। 

रिजर्व बैंक के 12 फरवरी, 2018 के परिपत्र के अंतर्गत भारतीय स्टेट बैंक की अगुवाई में बैंकों ने अस्थायी पुनर्गठन योजना तैयार की है। एयरलाइन ने शेयर बाजारों को दी सूचना में कहा कि अस्थायी समाधान योजना में 8,500 करोड़ रुपए के वित्त की कमी का अनुमान लगाया है। इसमें विमान कर्ज के एवज में 1,700 करोड़ रुपए के भुगतान का प्रस्ताव शामिल है।

इस कमी को शेयर पूंजी डालने, कर्ज पुनर्गठन, बिक्री/पट्टा वापसी/विमान का पुनर्वित्त समेत अन्य माध्यमों से पूरा किया जाएगा। समाधान योजना में कर्जदाताओं को इक्विटी शेयर आबंटित करने का विचार है। इसके तहत कर्जदाताओं के कर्ज को 10-10 रुपए के 11.40 करोड़ शेयरों में तब्दील करने का प्रस्ताव है। 
इससे एयरलाइन को कर्ज देने वाले कर्जदाता कंपनी में सबसे बड़े शेयरधारक बन जाएंगे।