Live TV
GO
  1. Home
  2. पैसा
  3. बिज़नेस
  4. जेआरडी टाटा: भारत रत्न प्राप्त करने...

जेआरडी टाटा: भारत रत्न प्राप्त करने वाले एकमात्र उद्योगपति, सबसे लंबे वक्त तक टाटा ग्रुप की कमान संभाली

भारत के सबसे बड़े कारोबारी घराने टाटा ग्रुप की स्थापना को इस साल 150 साल पूरे हुए हैं और आज यानि 29 जुलाई को टाटा ग्रुप के सबसे सफल चेयरमैन माने जाने वाले जहांगीर रतनजी दादाभाई टाटा यानि जेआरडी टाटा की 114वीं जयंती है।

Manoj Kumar
Reported by: Manoj Kumar 29 Jul 2018, 14:10:56 IST

नई दिल्ली। भारत के सबसे बड़े कारोबारी घराने टाटा ग्रुप की स्थापना को इस साल 150 साल पूरे हुए हैं और आज यानि 29 जुलाई को टाटा ग्रुप के सबसे सफल चेयरमैन माने जाने वाले जहांगीर रतनजी दादाभाई टाटा यानि जेआरडी टाटा की 114वीं जयंती है। टाटा ग्रुप के 150 साल में से जेआरडी टाटा 53 साल तक टाटा सन्स के चेयरमैन का पद संभाला है और वह इस ग्रुप के सबसे सफल चेयरमैन समझे जाते हैं।

भारत रत्न प्राप्त करने वाले एक मात्र उद्योगपति, 50 गुना बड़ा गिया टाटा ग्रुप

भारत का सर्वोच्च नागरिक सम्मान भारत रत्न है और देश में अबतक जितने भी उद्योगपति हुए हैं, उनमें सिर्फ जेआरडी टाटा ही हैं जिन्हें भारत रत्न प्राप्त हुआ है। जेआरडी ने सिर्फ 34 वर्ष की उम्र यानि 1938 में टाटा सन्स के चेयरमैन का पद संभाला था और वह इस पद पर 1991 तक बने रहे। जेआरडी के कार्यकाल में टाटा ग्रुप की ग्रोथ 50 गुना तक बढ़ी है, जेआरडी के कार्यकाल में टाटा ग्रुप का कुल  बाजार मूल्य 10 करोड़ डॉलर से बढ़कर 500 करोड़ डॉलर तक पहुंच गया था। मौजूदा समय में टाटा ग्रुप का कुल बाजार मूल्य 150 अरब डॉलर से ज्यादा है।

टाटा मोटर्स समेत 14 नई कंपनियां स्थापित कीं

अपने कार्यकाल में उन्होंने टाटा ग्रुप में 14 नई कंपनियां शुरू की। टाटा मोटर्स, टाटा सॉल्ट, टाटा ग्लोबल बेवरेजिस और टाइटन जैसी सफल कंपनियों की शुरुआत जेआरडी ने ही की थी। जेआरडी मीठापुर में एक सोडा एश का प्लांट लगाना चाहते थे लेकिन एक अंतरराष्ट्रीय एक्सपर्ट ने उन्हें इसकी सलाह नहीं मानी। इसके बावजूद जेआरडी टाटा ने हार नहीं मानी और आज टाटा कैमिकल की मीठापुर इकाई भारत में सबसे बड़ा इनॉर्गेनिक कैमिकल कॉम्पलेक्स है।

भारत में सविल एविएशन इंडस्ट्री के जनक

जेआरडी को भारत में सिविल एविएशन इंडस्ट्री का जनक भी कहा जाता है, 1929 में वह भारत में ऐसे पहले व्यक्ति बने थे जिन्होंने हवाजी जहाज चलाने के लिए लाइसेंस प्राप्त किया हो, इसके बाद 1932 में उन्होंने टाटा एयरलाइन्स की स्थापना की थी जिसे 1946 में एयर इंडिया का नाम दिया गया है। मौजूदा समय में एयर इंडिया भारत की सरकारी एयरलाइन कंपनी है।

IAS की तर्ज पर शुरू किया था TAS

जेआरडी ने भारतीय प्रशासनिक सेवा (IAS) की तर्ज पर 1956 में टाटा प्रशासनिक सेवा (TAS) की शुरुआत की थी जिसका मकसद टाटा ग्रुप में युवा प्रतिभाओं को प्रशिक्षित कर उन्हें लीडरशिप के लिए तैयार करना था।

ये हैं टाटा ग्रुप के अबतक के चेयरमैन

टाटा ग्रुप की स्थापना जमशेदजी टाटा ने 1868 मे की थी, स्थापना की सटीक तिथि के बारे मे जानकारी नहीं है लेकिन ऐसा समझा जाता है कि इसकी स्थापना जनवरी से सितंबर के बीच हुई है, जमशेदजी के बाद 1904 में दोराबजी टाटा ने ग्रुप के चेयरमैन का बद संभाला था और वह इस पद पर 1932 तक बने रहे। इसके बाद करीब 6 साल यानि 1938 तक नौरोजी सकलतवाला चेयरमैन के पद पर बने रहे। सकलतवाला के बाद जेआरडी टाटा ने पद संभाला और वह 1991 यानि 53 साल तक इस पद पर बने रहे। जेआरडी के बाद रतन टाटा लगभग 21 साल यानि 2012 तक टाटा सन्स के चेयरमैन रहे और उनके बाद 4 साल तक साइरस मिस्त्री ने पद संभाला है। साइरस को 2016 में इस पद से हटा दिया गया था और अब एन चेंद्रशेखरन टाटा सन्स के चेयरमैन हैं।

Web Title: जेआरडी टाटा: भारत रत्न प्राप्त करने वाले एकमात्र उद्योगपति, सबसे लंबे वक्त तक टाटा ग्रुप की कमान संभाली