Live TV
GO
  1. Home
  2. पैसा
  3. बिज़नेस
  4. जनवरी-मार्च तिमाही के लिए लघु बचत...

जनवरी-मार्च तिमाही के लिए लघु बचत योजनाओं की ब्‍याज दर अपरिवर्तित, सरकार ने नहीं किया बदलाव

सरकार ने लोक भविष्य निधि (पीपीएफ) और किसान विकास पत्र जैसी अन्य लघु बचत योजनाओं पर ब्याज दर जनवरी-मार्च तिमाही के लिए अपरिवर्तित रखने का निर्णय लिया है।

Abhishek Shrivastava
Abhishek Shrivastava 02 Jan 2017, 14:20:37 IST

नई दिल्ली। सरकार ने लोक भविष्य निधि (पीपीएफ) और किसान विकास पत्र जैसी अन्य लघु बचत योजनाओं पर ब्याज दर जनवरी-मार्च तिमाही के लिए अपरिवर्तित रखने का निर्णय लिया है। सरकार ने यह फैसला ऐसे समय लिया है, जब वाणिज्यिक बैंक अपनी ब्‍याज दरों में कटौती कर रहे हैं।

  • सरकार ने लघु बचत योजनाओं की ब्याज दरों की तिमाही समीक्षा की नई व्यवस्था पिछले साल अप्रैल से शुरू की है।
  • वित्त मंत्रालय की अधिसूचना में कहा गया है कि पीपीएफ पर आठ प्रतिशत वार्षिक की मौजूदा ब्याज दर जनवरी-मार्च तिमाही में भी बनी रहेगी। पांच साल की
  • परिपक्वता वाले राष्ट्रीय बचत पत्र (एनएससी) पर भी यही दर लागू होगी।
  • इसी प्रकार 112 महीनों की परिपक्वता वाले किसान विकास पत्र पर ब्याज दर 7.7 प्रतिशत वार्षिक पर अपरिवर्तित रखी गई है।
  • सुकन्या समृद्धि खाता योजना पर 8.5 प्रतिशत और वरिष्ठ नागरिक बचत योजना (पांच वर्ष) पर 8.5 प्रतिशत ब्याज दर में भी बदलाव नहीं हुआ।  पांच साल के
  • आवर्ती जमाओं पर जनवरी-मार्च तिमाही में ब्याज दर 7.3 प्रतिशत पर बनी रहेगी।
  • बचत खातों पर लोगों को चार प्रतिशत की दर से और एक से पांच वर्ष की मियाद वाली बैंक जमाओं पर 7-7.8 प्रतिशत का ब्याज चल रहा है।
  • पांच साल वाली रिक्रूरिंग डिपॉजिट पर सालाना 7.3 प्रतिशत का ब्‍याज इस तिमाही में भी मिलता रहेगा।
Web Title: जनवरी-मार्च के लिए लघु बचत योजनाओं की ब्‍याज दर अपरिवर्तित