Live TV
GO
  1. Home
  2. पैसा
  3. बिज़नेस
  4. 12 साल बाद आज पेप्सिको के...

12 साल बाद आज पेप्सिको के CEO पद से हटी इंद्रा नुई, कहा अभी भी काफी ऊर्जा हैं उनके भीतर

 पेप्सीको की सीईओ इंद्रा नुई ने कहा है कि उनके भीतर अभी काफी ऊर्जा है और आने वाले समय में वह कुछ अलग करना चाहती हैं।

India TV Paisa Desk
Edited by: India TV Paisa Desk 03 Oct 2018, 19:40:56 IST

न्यूयॉर्क। दुनिया की प्रमुख पेय पदार्थ बनाने वाली कंपनी पेप्सीको की सीईओ (मुख्य कार्यपालक अधिकारी) भ्‍ाारतवंशी इंद्रा नुई  12 साल बाद बुधवार को कंपनी के सीईओ पद से हट गई हैं। इस मौके पर उन्‍होंने कहा है कि उनके भीतर अभी काफी ऊर्जा है और आने वाले समय में वह कुछ अलग करना तथा परिवार के साथ अधिक समय बिताना चाहती हैं। उन्‍होंने अमेरिका की पेय पदार्थ बनाने वाली इस कंपनी की बागडोर 12 साल पहले संभाली थी।

जीवन में करना चाहती हूं कुछ अलग

चेन्नई में जन्मीं नुई जब 2006 में पेप्सीको की सीईओ बनीं तो उन्होंने कॉरपोरेट अमेरिका के लंबे समय से चल रहे बंधन को तोड़ा और लाखों युवा भारतीयों को अपने सपने को पूरा करने के लिए प्रेरित किया। पेप्सीको की 2018 की तीसरी तिमाही के वित्तीय परिणाम को लेकर आयोजित कॉन्‍फ्रेंस में अपने समापन संबोधन में उन्होंने कहा कि आपको पता है सीईओ के रूप में 12 साल लंबा समय है और आज भी मेरे भीतर काफी ऊर्जा है। मैं अपने जीवन में कुछ अलग करना चाहती हूं। अपने परिवार के साथ अधिक समय व्यतीय करना चाहती हूं और पेप्सीको में अगली पीढ़ी को एक महान कंपनी की अगुवाई का मौका देना चाहती हूं। 

Related Stories

पेप्सीको की अगुवाई करना गर्व की बात

नुई ने कहा कि पेप्सीको की अगुवाई करने का मौका और मौजूदा निदेशक मंडल, कार्यकारी और सहयोगी, शेयरधारकों एवं अन्य संबंधित पक्षों समेत बेहतरीन लोगों के साथ काम करना उनके लिए गर्व की बात है। वह 24 साल से कंपनी में काम करने के बाद पद से हट रही हैं। इस 24 साल के सेवा काल में वह 12 साल सीईओ रहीं। वह 2019 की शुरुआत  तक कंपनी की चेयरपर्सन रहेंगी ताकि जिम्मेदारी का बिना किसी समस्या के हस्तांतरण हो सके। उल्लेखनीय है कि पेप्सीको के निदेशक मंडल ने इस साल अगस्त में नुई के उत्तराधिकारी के रूप में रामोन लागुआर्ता का चयन किया। वह 62 साल की नुई का स्थान लेंगे।

Web Title: 12 साल बाद आज पेप्सिको के CEO पद से हटी इंद्रा नुई, कहा अभी भी काफी ऊर्जा हैं उनके भीतर