Live TV
  1. Home
  2. पैसा
  3. बिज़नेस
  4. निर्यात बढ़ाने के लिए लॉजिस्टिक्स में...

निर्यात बढ़ाने के लिए लॉजिस्टिक्स में सुधार जरूरी

नितिन गडकरी ने कहा कि भारत में ऊंची लॉजिस्टिक्स लागत निर्यात वृद्धि तथा देश के आर्थिक विकास में बड़ी बाधा हैं और इसे कम करने के प्रयास किए जा रहे हैं।

Abhishek Shrivastava
Abhishek Shrivastava 30 Apr 2016, 13:43:51 IST

नई दिल्ली। केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने कहा कि भारत में ऊंची लॉजिस्टिक्स लागत निर्यात वृद्धि तथा देश के आर्थिक विकास में बड़ी बाधा हैं और इसे कम करने के प्रयास किए जा रहे हैं। उन्होंने कहा, लॉजिस्टिक्स लागत में कमी कर देश में निर्यात 1.5 गुना बढ़ाया जा सकता है साथ ही इससे तीव्र आर्थिक वृद्धि की राह खुलेगी। गडकरी ने कहा कि देश में मौजूदा लॉजिस्टिक्स लागत 18 प्रतिशत तक ऊंची है, जो कि चीन व यूरोप आदि की तुलना में काफी अधिक है।

मई, 2017 तक तीन लाख करोड़ रुपए की अतिरिक्त सड़क परियोजनाएं आवंटित करेगी सरकार: गडकरी

रेलवे ने माल भाड़े पर 15 फीसदी व्यस्त सीजन शुल्क वापस लिया

रेलवे ने मूल माल ढुलाई सेवा पर 15 फीसदी व्यस्त सीजन शुल्क (बीएससी) एक मई से वापस लेने की घोषणा की है। माल ढुलाई भाड़े को युक्तिसंगत बनाने की पहल के तहत यह कदम उठाया गया है। व्यस्त सीजन शुल्क वापस लेने का निर्णय एक मई से 30 जून 2016 तक लागू होगा। यह ढके हुए डिब्बों पर लागू होगा।

बीएससी वापस लिए जाने की घोषणा करते हुए रेल मंत्री सुरेश प्रभु ने कहा, हम माल ढुलाई में सड़क क्षेत्र से पिछड़ रहे हैं। हम माल भाड़े को युक्तिसंगत बनाकर इसे फिर से प्राप्त करने की कोशिश कर रहे हैं। मौजूदा नीति के तहत यह शुल्क कम व्यस्त सीजन जुलाई से सितंबर तक नहीं लगाया जाता है। प्रभु ने कहा कि अगर हम लदान की मात्रा बढ़ाते हैं तो आय भी बढ़ेगी। ऐसा अनुमान है कि बीएससी वापस लिए जाने से लदान में करीब 60 से 70 लाख टन की वृद्धि होगी। इससे अधिभार वापस लेने से होने वाले नुकसान की भरपाई हो सकेगी।

Web Title: निर्यात बढ़ाने के लिए लॉजिस्टिक्स में सुधार जरूरी