Live TV
  1. Home
  2. पैसा
  3. बिज़नेस
  4. भारत में सुधारों की गति मंद:...

भारत में सुधारों की गति मंद: अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष

अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष (आईएमएफ) ने भारत में छह प्रमुख क्षेत्रों में सुधारों को आगे बढ़ाने की जरूरत पर बल देते हुए आगाह किया है।

Sachin Chaturvedi
Sachin Chaturvedi 25 Jul 2016, 10:25:36 IST

बीजिंग। अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष (आईएमएफ) ने भारत में छह प्रमुख क्षेत्रों में सुधारों को आगे बढ़ाने की जरूरत पर बल देते हुए आगाह किया है कि देश में कंपनियों और बैंकों की बैलेंश-शीट की कमजोरी, आर्थिक सुधारों की धीमी पड़ती गति और मंद निर्यात से पैदा चुनौतियां उसकी आर्थिक वृद्धि को प्रभावित कर सकती हैं। आईएमएफ ने हाल ही में जारी अनुमान में कहा है कि भारत की आर्थिक वृद्धि चालू वित्त वर्ष में 7.4 फीसदी रहेगी।

यह भी पढ़ें- ग्रोथ के मामले में भारत को पीछे छोड़ेगा भूटान, IMF ने दिया 11% विकास दर का अनुमान

इस वैश्विक संस्था का कहना है कि देश की अर्थव्यवस्था की आलत सुधर रही है और इसमें कच्चे तेल की कीमतों में गिरावट, सकारात्मक नीतिगत निर्णयों और बेहतर आत्मविश्वास ने काफी मदद मिली है। अंतरराष्ट्रीय संस्थान ने यह बात वैश्विक आर्थिक संभावनाओं और चुनौतियों के बारे में अपने दस्तावेज नोट ऑन ग्लोबल प्रॉस्पेक्टस एंड पॉलिसी चैलेंज दस्तावेज में कही है। यह दस्तावेज यहां होने वाली जी20 समूह के वित्त मंत्रियों और केंद्रीय बैंकों के गर्वनरों की यहां चल रही दो दिवसीय बैठक के लिए तैयार किया गया है।

यह भी पढ़ें- IMF ने घटाया भारत की वृद्धि दर का अनुमान, 2016-17 में 7.4 फीसदी रहेगी GDP ग्रोथ

Web Title: भारत में सुधारों की गति मंद: अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष