Live TV
GO
  1. Home
  2. पैसा
  3. बिज़नेस
  4. जैविक खेती में गौमूत्र के इस्तेमाल...

जैविक खेती में गौमूत्र के इस्तेमाल की संभावनाओं की तलाश करेगा ICAR, नीति आयोग की बैठक में लिया गया निर्णय

देश की शीर्ष संस्था ICAR को इस बात का अध्ययन करने के लिए कहा गया है कि क्या गौमूत्र का इस्तेमाल जैविक खेती को प्रोत्साहित करने में किया जा सकता है।

Manish Mishra
Manish Mishra 22 Oct 2017, 18:07:52 IST

नई दिल्ली कृषि संबंधी शोध करने वाली देश की शीर्ष संस्था भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद (ICAR) को इस बात का अध्ययन करने के लिए कहा गया है कि क्या गौमूत्र का इस्तेमाल जैविक खेती को प्रोत्साहित करने में किया जा सकता है। उसे दो महीने के भीतर इस बाबत रिपोर्ट पेश करने के लिए कहा गया है। नीति आयोग के एक वरिष्ठ अधिकारी के अनुसार, ICAR को कहा गया है कि वह गौमूत्र को एमीनो एसिड में परिवर्तित करने की संभावना तलाशे ताकि इसका इस्तेमाल कृषि उत्पादकता बढ़ाने के लिए प्राकृतिक उर्वरक के तौर पर किया जा सके।

यह भी पढ़ें : लगातार दूसरे महीने कायम रहा मारुति डिजायर का जलवा, ऑल्‍टो को पछाड़ बनी रही नंबर 1 सेलिंग कार

ICAR को यह अध्ययन करने का अनुरोध करने का निर्णय नीति आयोग की उच्चस्तरीय बैठक में लिया गया। इस बैठक में लघु, सूक्ष्म एवं मध्यम उपक्रम राज्य मंत्री गिरिराज सिंह ने जैविक खेती के बारे में बात की और बताया कि गौमूत्र, जैविक कूड़ा और गोबर का इस्तेमाल जैविक खेती में कैसे किया जा सकता है। अधिकारी ने बताया कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पहले भी कई बार नीति आयोग को सिंह के साथ बैठक करने के लिए कह चुके हैं क्योंकि वह बिहार में जैविक खेती पर काफी काम कर चुके हैं।

यह भी पढ़ें : टाटा संस की बोर्ड बैठक से पहले ही साइरस मिस्त्री ने पत्नी को भेजा था एसएमएस, मुझे बर्खास्त किया जा रहा है

सिंह ने कथित तौर पर नीति आयोग से कहा है कि गौमूत्र रासायनिक उर्वरकों का बेहतर विकल्प है और यह कृषि उत्पादकता को चार-पांच गुना बढ़ा सकता है। उल्लेखनीय है कि 2016 में सिक्किम देश का पहला पूरी तरह जैविक राज्य घोषित किया गया।

Web Title: जैविक खेती में गौमूत्र के इस्तेमाल की संभावनाएं तलाशेगा ICAR