Live TV
GO
Hindi News पैसा बिज़नेस सरकार ने प्राकृतिक गैस की कीमत...

सरकार ने प्राकृतिक गैस की कीमत में की 6 प्रतिशत की वृद्धि, सीएनजी व पीएनजी होगी अब महंगी

सरकार ने प्राकृतिक गैस की कीमत में छह प्रतिशत की वृद्धि कर दी है और इसके साथ यह दो साल के उच्चतम स्तर पर पहुंच गई है। इससे सीएनजी तथा पीएनजी (रसोई गैस) के भाव बढ़ जाएंगे।

Abhishek Shrivastava
Abhishek Shrivastava 29 Mar 2018, 20:12:40 IST

नई दिल्ली। सरकार ने प्राकृतिक गैस की कीमत में छह प्रतिशत की वृद्धि कर दी है और इसके साथ यह दो साल के उच्चतम स्तर पर पहुंच गई है। इससे सीएनजी तथा पीएनजी (रसोई गैस) के भाव बढ़ जाएंगे। पेट्रोलियम मंत्रालय के पेट्रोलियम योजना एवं विश्लेषण प्रकोष्ठ की तरफ से जारी अधिसूचना के अनुसार घरेलू फील्ड से उत्पादित अधिकांश प्राकृतिक गैस की कीमत एक अप्रैल से 3.06 डॉलर प्रति इकाई (प्रति10 लाख ब्रिटिश थर्मल यूनिट) होगी। यह वृद्धि एक अप्रैल से छह महीने के लिए  की गई है। अभी इसका दाम 2.89 डॉलर प्रति इकाई है।

अमेरिका, रूस और कनाडा जैसे गैस अधीशेष वाले देशों में औसत दरों के आधार पर प्राकृतिक गैस की कीमत हर छह महीने बाद निर्धारित की जाती है। भारत अपनी कुल जरूरत का करीब आधा हिस्सा आयात करता है। आयातित गैस की कीमत घरेलू दर के मुकाबले दोगुने से अधिक होती है।

यह लगातार दूसरा मौका है जब गैस के दाम बढ़ाए गए हैं। इससे अप्रैल-सितंबर 2016 के बाद गैस की दर उच्चतम स्तर पर पहुंच गई है। उस समय इतनी ही कीमत घरेलू उत्पादकों को दी जाती थी। गैस कीमत में वृद्धि से ऑयल एंड नेचुरल गैस कॉरपोरेशन (ओएनजीसी) तथा रिलायंस इंडस्ट्रीज जैसी उत्पादक कंपनियों की आय में बढ़ोतरी होगी। साथ ही इससे सीएनजी और पाइप के जरिये घरों में पहुंचने वाली रसोई गैस महंगी होगी। क्‍योंकि इनमें प्राकृतिक गैस का उपयोग कच्चे माल के रूप में किया जाता है। इससे यूरिया तथा बिजली उत्पादन की लागत भी बढ़ेगी।

इस वृद्धि से घरेलू गैस आधारित बिजली उत्पादन की लागत करीब 3 प्रतिशत बढ़ेगी। साथ ही इससे सीएनजी तथा पाइप के जरिये घरों में पहुंचने वाली रसोई गैस की कीमत क्रमश: 50-55 पैसे तथा 35-40 पैसे प्रति घन मीटर बढ़ेगी। साथ ही गहरे पानी, उच्च तापमान जैसे कठिन क्षेत्रों में नये फील्डों से उत्पादित गैस की कीमत अप्रैल-अक्‍टूबर 2018 के लिए बढ़ाकर 6.78 डॉलर प्रति इकाई कर दी गई है। फिलहाल यह 6.30 डॉलर प्रति 10 लाख ब्रिटिश थर्मल यूनिट है।

More From Business