Live TV
GO
  1. Home
  2. पैसा
  3. बिज़नेस
  4. नोटबंदी से बैंकों को लगा सबसे...

नोटबंदी से बैंकों को लगा सबसे बड़ा झटका, 60 साल में सबसे कम हुई क्रेडिट ग्रोथ

नोटबंदी के बाद बैंकों की क्रेडिट ग्रोथ (उधारी कारोबार) में ऐतिहासिक गिरावट आई है। बैंकों की क्रेडिट ग्रोथ गिरकर ऐतिहासिक निचले स्तर 5.1% पर आ गई है।

Ankit Tyagi
Ankit Tyagi 06 Jan 2017, 11:41:59 IST

नई दिल्ली। नोटबंदी के बाद बैंकों की क्रेडिट ग्रोथ (उधारी कारोबार) में ऐतिहासिक गिरावट आई है। 23 दिसंबर को बैंकों की क्रेडिट ग्रोथ गिरकर ऐतिहासिक निचले स्तर 5.1 फीसदी पर आ गई है। SBI (स्टेट बैंक ऑफ इंडिया) के चीफ इकॉनमिस्ट सौम्य कांति घोष के मुताबिक क्रेडिट ग्रोथ का यह 60 साल का निचला स्तर है। हालांकि ब्याज दरें कम होने से हाउसिंग सेक्टर में छाई मंदी दूर हो सकती है।

यह भी पढ़े: बैंकों-डाकघरों में जमा हुए पुराने नोटों का अनुमान हो सकता है गलत, नए आंकड़े जल्द जारी करेगा RBI

SBI की रिपोर्ट में हुआ खुलासा

  • भारतीय स्टेट बैंक (SBI) की एक रिपोर्ट में गुरुवार को यह बात कहीं गई। SBI की ‘इकॉनरैप-ऋणवृद्धि पर सट्टेबाजी’ रिपोर्ट में बताया गया है कि ‘कम क्रेडिट ग्रोथ चिंता की बात है।

यह भी पढ़े: 50 दिन में 1061 छापे, पकड़ में आया देश भर से 4313 करोड़ रुपए का कालाधन

ऐतिहासिक निचले स्तर पर पहुंची क्रेडिट ग्रोथ

  • SBI रिपोर्ट के मुताबिक सभी शेड्यूल्ड कमर्शल बैंकों के डेटा इस तरफ इशारा करते हैं कि क्रेडिट ग्रोथ साल-दर-साल 23 दिसंबर को ऐतिहासिक निचले स्तर पर गिरकर 5.1 फीसदी पर आ गई है।

यह भी पढ़े: नोटबंदी के बाद गड़बड़ी करने वाले बैंक अधिकारियों के आएंगे ‘बुरे दिन’, वित्‍त मंत्रालय ने मांगी रिपोर्ट

क्रेडिट ग्रोथ में आई 5229 करोड़ रुपए की बड़ी गिरावट

  • रिपोर्ट में कहा गया, 11 नवंबर और 23 दिसंबर के बीच की अवधि के दौरान क्रेडिट ग्रोथ में 5229 करोड़ रुपए की गिरावट आई है, जबकि इस दौरान बैंकों की जमा राशि में करीब 4 लाख रुपए की वृद्धि हुई है।

तस्‍वीरों में देखिए अब इन छोटी जगहों पर भी हो रहा है Paytm का इस्‍तेमाल

Paytm

IndiaTV Paisa

IndiaTV Paisa

IndiaTV Paisa

IndiaTV Paisa

हाउसिंग सेक्टर को मिलेगा सपोर्ट

  • ब्याज दरों में एक बार में 0.90 फीसदी की कटौती हो चुकी है। इससे स्पष्ट रूप से हाउसिंग सेक्टर को मजबूती मिलेगी। भारतीय स्टेट बैंक ने 1 जनवरी से लेकर तीन साल तक की अवधि वाले ऋणों की दर में 0.90 फीसदी की कटौती की थी।

आपको हुआ ये फायदा

नोटबंदी के बाद से ही कहा जा रहा था कि बैंक अपनी ब्याज दरों में कटौती कर सकते हैं। लिहाजा सरकारी और प्राइवेट बैंकों ने नए साल की शुरुआत में अपने बेस लेंडिंग रेट में कटौती का ऐलान कर दिया। भारतीय स्टेट बैंक (SBI) और पंजाब नेशनल बैंक (PNB) के बाद निजी क्षेत्र के सबसे बड़े बैंक ICICI ने भी ब्याज दर में 0.70 फीसदी की कटौती का ऐलान कर दिया है। एक्सपर्ट्स के मुताबिक ब्याज दरों में अभी तक की सबसे बड़ी कटौती है।

Web Title: नोटबंदी से बैंकों को लगा झटका, 60 साल में सबसे कम हुई क्रेडिट ग्रोथ