Live TV
GO
  1. Home
  2. पैसा
  3. बिज़नेस
  4. त्योहारों से पहले दाल हो सकती...

त्योहारों से पहले दाल हो सकती है महंगी, सरकार ने तुअर के बाद अब उड़द-मूंग आयात को भी प्रतिबंधित श्रेणी में डाला

सरकार ने तुअर के बाद अब उड़द और मूंग का आयात प्रतिबंधित श्रेणी में डाल दिया है। सोमवार को DGFT की तरफ से इसको लेकर अधिसूचना जारी की जा चुकी है

Manoj Kumar
Manoj Kumar 22 Aug 2017, 12:37:59 IST

नई दिल्ली। आगामी त्योहारी सीजन में इस बार दाल के महंगा होने की आशंका बढ़ गई है। नई फसल के मार्केट मे आने से पहले सरकार ने दलहन आयात को लेकर बढ़ा फैसला किया है। केंद्र सरकार ने तुअर के बाद अब उड़द और मूंग का आयात प्रतिबंधित श्रेणी में डाल दिया है। सोमवार को विदेश व्यापार महानिदेशालय (DGFT) की तरफ से इसको लेकर अधिसूचना जारी की जा चुकी है। करीब 2 हप्ते पहले सरकार ने तुअर के आयात को भी प्रतिबंधित श्रेणी मे डाला था।

DGFT की तरफ से सोमवार को जारी हुई अधिसूचना के मुताबिक मूंग और उड़द आयात को फ्री श्रेणी से हटाकर प्रतिबंधित श्रेणी में रखा गया है और सालाना दोनो दलहन का 3-3 लाख टन से अधिक आयात नहीं किया जा सकता है। हालांकि ये शर्त सिर्फ निजी दलहन आयात पर लागू होगी, सरकार के लिए होने वाले दलहन आयात पर ये शर्त लागू नहीं है।

खरीफ सीजन में तुअर सबसे ज्यादा पैदा होने वाला दलहन है और उड़द के साथ मूंग का भी ज्यादातर उत्पादन खरीफ सीजन में ही होता है। अगले महीने से बाजार में नई फसल के उड़द और मूंग की आवक शुरू हो जाएगी। ऐसे में सरकार नहीं चाहती कि किसानों को उनके पैदा किए दलहन के लिए समर्थन मूल्य से कम भाव मिले, इसे देखते हुए सरकार हर प्रयास कर रही है कि नई फसल आने से पहले खरीफ दलहन का भाव समर्थन मूल्य से ऊपर हो जाए। फिलहाल उड़द तो सरकार के तय किए हुए समर्थन मूल्य 5,400 रुपए प्रति क्विंटल के ऊपर बिक रहा है लेकिन तुअर (5,450 रुपए) और मूंग (5575 रुपए) का भाव समर्थन मूल्य से काफी नीचे है।

किसानों को दलहन का जायज भाव दिलाने के लिए सरकार की ये कोशिश उपभोक्ताओं पर भारी पड़ सकती है। सरकार की इस कोशिश से दालों के दाम अगर ज्यादा बढ़े तो आगामी त्योहारी सीजन में दाल खाना महंगा पड़ सकता है।

Web Title: त्योहार से पहले दाल होगी महंगी? उड़द-मूंग का आयात प्रतिबंधित श्रेणी में