Live TV
GO
Hindi News पैसा बिज़नेस टाटा ग्रुप को छोड़ने की दूसरी...

टाटा ग्रुप को छोड़ने की दूसरी वर्षगांठ पर साइरस मिस्‍त्री ने की नए वेंचर की घोषणा, स्‍टार्टअप्‍स की करेंगे मदद

टाटा ग्रुप के पूर्व चेयरमैन साइरस मिस्‍त्री ने बुधवार को एक प्राइवेट इक्विटी वेंचर मिस्‍त्री वेंचर्स एलएलपी को शुरू करने की घोषणा की है। मिस्‍त्री ने टाटा ग्रुप को छोड़ने की दूसरी वर्षगांठ पर इस नए वेंचर की घोषणा की है।

India TV Paisa Desk
India TV Paisa Desk 24 Oct 2018, 11:27:00 IST

नई दिल्‍ली। टाटा ग्रुप के पूर्व चेयरमैन साइरस मिस्‍त्री ने बुधवार को एक प्राइवेट इक्विटी वेंचर मिस्‍त्री वेंचर्स एलएलपी को शुरू करने की घोषणा की है। मिस्‍त्री ने टाटा ग्रुप को छोड़ने की दूसरी वर्षगांठ पर इस नए वेंचर की घोषणा की है।

मिस्‍त्री वेंचर्स एलएलपी भारत और दुनियाभर में स्‍टार्टटप्‍स को रणनीतिक दूरदृष्टि और कारोबार के लिए सलाह, नए वेंचर्स की स्‍थापना और उन्‍हें वित्‍तीय मदद मुहैया कराएगी। मिस्‍त्री वेंचर्स की जिम्‍मेदारी आशीष अय्यर को सौंपी गई है। वह इससे पहले वह बोस्‍टन कंसल्टिंग ग्रुप में ग्‍लोबल लीडर थे।

मिस्‍त्री ने 2012 में टाटा संस के चेयरमैन का पद संभाला था, लेकिन बोर्ड सदस्‍यों के साथ मनमुटाव होने के बाद 24 अक्‍टूबर 2016 को पद छोड़ना पड़ा था। साइरस और उनके भाई शपूर, जिनके पास पारिवारिक शपूरजी पलोनजी ग्रुप में 50-50 प्रतिशत हिस्‍सेदारी है, संयुक्‍त रूप से नए वेंचर्स के प्रमोटर्स होंगे।  

साइरस मिस्‍त्री ने कहा कि आशीष ने पूरी दुनिया में विभि‍न्‍न सेक्‍टर्स की कंपनियों के साथ काम किया है और उनके पास समृद्ध अनुभव है और उन्‍हें बोर्ड में शामिल कर मैं बहुत खुश हूं। उन्‍होंने कहा कि सकारात्‍मक सामाजिक प्रभाव के साथ लाभ को वितरित करने की इच्‍छा रखने वाले वेंचर्स के साथ हम साझेदारी करेंगे।

उन्‍होंने आगे कहा कि मिस्‍त्री वेंचर्स एक कंपनी में निवेश करने के बजाये बहुत कुछ करेगी। वैश्विक और स्‍थानीय ट्रेंड्स को भांपकर और उद्योग एवं कंपनियों पर उनके प्रभाव को समझकर हम नए बिजनेस तैयार करेंगे, भागीदारी करेंगे और सभी सेक्‍टर्स में निवेश करेंगे।

शपूरजी पलोनजी ग्रुप एक विविध कारोबारी समूह है, इसका इतिहास 150 साल पुराना है। यह समूह इंजीनियरिंग और निर्माण, इंफ्रास्‍ट्रक्‍चर, रियल एस्‍टेट, जल, बिजली और फाइनेंशियल सर्विसेस सेक्‍टर में कार्यरत है। इसके 60 से अधिक देशों में कार्यालय हैं।