Live TV
GO
Hindi News पैसा बिज़नेस मध्‍य प्रदेश में इंदौर से बुदनी...

मध्‍य प्रदेश में इंदौर से बुदनी के बीच बिछेगी नई रेल लाइन, CCEA ने दी मंजूरी

आर्थिक मामलों की संसदीय समिति (सीसीईए) ने बुधवार को मध्य प्रदेश में बुदनी और इंदौर (मांगलिया गांव) के बीच 205 किलोमीटर लंबी नई रेल लाइन को मंजूरी दे दी है।

India TV Paisa Desk
India TV Paisa Desk 19 Sep 2018, 20:13:51 IST

नई दिल्ली। आर्थिक मामलों की संसदीय समिति (सीसीईए) ने बुधवार को मध्य प्रदेश में बुदनी और इंदौर (मांगलिया गांव) के बीच 205 किलोमीटर लंबी नई रेल लाइन को मंजूरी दे दी है। इस परियोजना की लागत 3261.82 करोड़ रुपए होगी। यह फैसला प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में हुई बैठक में लिया गया।

आधिकारिक बयान में कहा गया है, "सीसीईए ने बुदनी से इंदौर (मांगलिया गांव) के बीच 205.5 किलोमीटर लम्बी नई रेल लाइन के निर्माण को मंजूरी दे दी है। इस परियोजना की कुल अनुमानित लागत 3261.82 करोड़ रुपये है।"

बयान में कहा गया है कि इस परियोजना का मुख्य उद्देश्य पिछड़े क्षेत्रों का विकास तथा इंदौर से जबलपुर के बीच यात्रा समय में कमी और इंदौर से मुम्बई तथा दक्षिण की ओर यात्रा समय में कमी लाना है। इससे भोपाल के रास्ते वर्तमान मार्ग की तुलना में इंदौर और जबलपुर के बीच की दूरी 68 किलोमीटर कम हो जाएगी।

रेल मंत्रालय के मुताबिक, इससे क्षेत्र के लोगों और उद्योगों को बेहतर परिवहन सुविधा मिलेगी। बयान में कहा गया है, "इससे परियोजना क्षेत्र में रोजगार सृजन होगा। निर्माण अवधि के दौरान 49.32 लाख मानवदिवसों का प्रत्यक्ष रोजगार सृजन होगा।"

प्रस्तावित लाइन बुदनी के वर्तमान यार्ड से प्रारंभ होगी और इंदौर के निकट पश्चिमी रेलवे के वर्तमान स्टेशन मांगलिया गांव से जुड़ेगी। इस मार्ग पर 10 नए क्रॉसिंग स्टेशन और सात नए हाल्ट स्टेशन बनाने का प्रस्ताव है। नई लाइन से सिहोर, देवास तथा इंदौर जिलों को लाभ होगा और बुदनी से इंदौर के बीच सीधा संपर्क स्थापित होगा। अभी बुदनी से बरखेड़ा घाट सेक्शन सहित भोपाल-इटारसी के भीड़ वाले मार्ग से जाना पड़ता है।

बयान में कहा गया, "नई लाइन आस-पास के क्षेत्र के औद्योगिक विकास के लिए बुनियादी ढाचागत सुविधा प्रदान करेगी और इससे सामाजिक-आर्थिक लाभ होंगे। यह परियोजना इस क्षेत्र के पिछड़े वर्ग का विकास करने तथा नसरुल्लागंज, खातेगांव तथा कन्नौद जैसे विभिन्न शहरों/गांवों से रेल संपर्क स्थापित होगा, जहां अभी रेल संपर्क नहीं है।"

More From Business