Live TV
GO
Hindi News पैसा बिज़नेस नोटबंदी से बढ़ी डिजिटलीकरण की संभावना,...

नोटबंदी से बढ़ी डिजिटलीकरण की संभावना, 63% खुदरा कारोबारियों ने अपनाया डिजिटल लेनदेन

नोटबंदी के कारण ग्रामीण समेत शहरी क्षेत्रों के 63 प्रतिशत खुदरा कारोबारियों ने डिजिटल लेनदेन अपनाया है।

Manish Mishra
Manish Mishra 08 Nov 2017, 9:23:36 IST

बेंगलुरु नोटबंदी के कारण ग्रामीण समेत शहरी क्षेत्रों के 63 प्रतिशत खुदरा कारोबारियों ने डिजिटल लेनदेन अपनाया है। इससे डिजिटलीकरण का विस्‍तार करने की संभावनाएं बढ़ी हैं। सेंटर फोर डिजिटल फाइनेंशियल इंक्लूजन (CDFI) के एक अध्ययन में यह जानकारी सामने आई है। यह अध्ययन दो चरणों में की गई है। पहला चरण नोटबंदी के पहले और दूसरा चरण नोटबंदी के बाद हुआ है। इसमें पाया गया कि खुदरा कारोबारियों के बीच डिजिटल लेनदेन की स्वीकार्यता नोटबंदी के बाद बढ़ी है।

CDFI के कार्यकारी निदेशक कृष्णन धर्मराजन और इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ मैनेजमेंट (बेंगलुरु) के डिजिटल इनोवेशन लैब के सूत्रधार शशांक गर्ग ने यह अध्ययन किया है। धर्मराजन ने कहा कि हमने दो साल पहले इस अध्ययन की शुरुआत की थी और पता लगा रहे थे कि किराना दुकान किस तरह से नकद-मुक्त कारोबार की ओर जा रहे हैं। हमारे अध्ययन का उद्देश्य यह पता लगाना था कि गरीब लोग तकनीकी बदलाव में कैसे महत्वपूर्ण हो पाते हैं।

उन्होंने कहा कि जब हमारा अध्ययन चल रहा था तभी नोटबंदी की घोषणा हुई। इसके बाद हमें अध्ययन के तरीके में बदलाव करना पड़ा। इससे हमें व्यावहारिक बदलाव पता करने में मदद मिली। हमने पाया कि अब 63 प्रतिशत खुदरा कारोबारी डिजिटल होने को इच्छुक हैं। नोटबंदी से पहले महज 31 प्रतिशत कारोबारी ऐसा चाह रहे थे।

यह भी पढ़ें : देश में तेजी से बढ़ रहा है डिजिटल लेनदेन, नोटबंदी के बाद सरकार दे रही है इसे बढ़ावा: वित्तमंत्री

यह भी पढ़ें : नोटबंदी: आबादी के 0.00011% हिस्से के पास था देश का 33% कैश, PM मोदी ने दी इसके फायदों की अहम जानकारी