Live TV
GO
Hindi News लाइफस्टाइल जीवन मंत्र होलाष्टक 2018: 23 फरवरी से लेकर...

होलाष्टक 2018: 23 फरवरी से लेकर 2 मार्च के बीच भूल से भी न करें ये शुभ काम

2 मार्च को होली है और इसकी तैयारी अभी से शुरू है। लेकिन इन सब के बीच एक बात का विशेष ख्याल रखें वह है कि आप इसके बीच कोई भी शुभ काम न करें। क्योंकि इससे आपको कई तरह की परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है।

India TV Lifestyle Desk
India TV Lifestyle Desk 24 Feb 2018, 14:26:08 IST

नई दिल्ली: 2 मार्च को होली है और इसकी तैयारी अभी से शुरू है। लेकिन इन सब के बीच एक बात का विशेष ख्याल रखें वह है कि आप इसके बीच कोई भी शुभ काम न करें। क्योंकि इससे आपको कई तरह की परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है। 

23 फरवरी से दो मार्च तक होलाष्टक लग रहे हैं। ऐसे में इन आठ दिनों आप भूलकर भी ये काम न करें। ज्योतिषाचार्यों के अनुसार इन 8 दिनों में ग्रह अपना स्थान बदलते हैं। ग्रहों के इन बदलाव की वजह से होलाष्टक के दौरान किसी भी शुभ कार्य को शुरू नहीं किया जाता है।

होलाष्टक के चलते जहां दो मार्च तक शुभ कार्य बर्जित रहेंगे वहीं खरमास के चलते भी एक माह की अवधि में शुभ कार्यों पर ब्रेक लग जाएगा। ऐसे में लोगों को किसी नए कार्य की शुरुआत एवं विवाह आदि के आयोजन को लेकर ज्योतिषीय परामर्श की जरुरत पड़ेगी।

पंडित सुशांतराज के अनुसार, इस बार एक मार्च को होलिका दहन रात 7.42 के बाद हो जाएगा। ज्योतिषाचार्यों ने दहन का यही समय तय किया है। होलाष्टक के बाद 13 मार्च तक विवाह समेत अन्य शुभकार्य किए जा सकेंगे। लेकिन इसके बाद फिर से एक माह के लिए शुभ कार्यों पर ब्रेक लग जाएगा।

ज्योतिषाचार्य राकेश शुक्ला ने बताया कि 13 मार्च से 13 अप्रैल तक खरमास रहेगा। इस अवधि में शुभ कार्य बर्जित होंगे। उन्होंने बताया कि 17 अप्रैल से शुभ कार्यों का प्रारंभ हो जाएगा। साथ ही इस वर्ष मलमास होने के चलते 15 मई से 15 जून के मध्य भी शुभ कार्य नहीं किए जा सकेंगे।

15 जून के बाद 20 जुलाई तक शुभ कार्यों का मुहूर्त बना रहेगा। हिंदू धर्म में गर्भवती स्त्री को विशेष सम्मान और संरक्षणदिया जाता है इसलिए उसकी रक्षा के लिए कई तरह के लिए हम भी बनाए गए हैं जिस प्रकार सूर्य और चंद्र ग्रहण के दौरान गर्भवती स्त्रियों को घर सेबाहर निकलने की मनाही रहती है।

India Tv Hindi पर देश-विदेश की ताजा Hindi News और स्‍पेशल स्‍टोरी पढ़ते हुए अपने आप को रखिए अप-टू-डेट। Religion News in Hindi के लिए क्लिक करें लाइफस्टाइल सेक्‍शन

More From Religion