Live TV
GO
Hindi News लाइफस्टाइल जीवन मंत्र 1 दिसंबर को बन रहा है...

1 दिसंबर को बन रहा है बहुत ही दुर्लभ संयोग, हर इच्छा पूरी करने के लिए जरुर करें ये उपाय

जब कभी गुरुवार या शनिवार को चतुर्थी, अष्टमी, नवमी, त्रयोदशी या चतुर्दशी तिथि के साथ कृतिका, आर्द्रा, आश्लेषा, उत्तराफाल्गुनी, स्वाती, ज्येष्ठा, उत्तराषाढ़ा, शतभिषा या रेवती नक्षत्र का संयोग बन रहा हो। आज योग करना होगा शुभ।

India TV Lifestyle Desk
India TV Lifestyle Desk 30 Nov 2018, 19:46:06 IST

धर्म डेस्क: आज मार्गशीर्ष कृष्ण पक्ष की नवमी तिथि और शनिवार का दिन है। साथ ही आज स्थिर योग, प्रीति योग और उत्तराफाल्गुनी नक्षत्र है। इसके अलावा चंद्रमा आज कन्या राशि में रहेगा। आपको बता दूं कि स्थिर योग आज सुबह सूर्योदय से दोपहर 03:20 तक रहेगा। प्रीति योग आज सुबह 07:42 से पूरा दिन पार करके कल सुबह 05:21 तक रहेगा। इसके अलावा उत्तराफाल्गुनी नक्षत्र आज पूरा दिन पार करके देर रात 03:31 तक रहेगा।

जब कभी गुरुवार या शनिवार को चतुर्थी, अष्टमी, नवमी, त्रयोदशी या चतुर्दशी तिथि के साथ कृतिका, आर्द्रा, आश्लेषा, उत्तराफाल्गुनी, स्वाती, ज्येष्ठा, उत्तराषाढ़ा, शतभिषा या रेवती नक्षत्र का संयोग बन रहा हो, तो उस दिन स्थिर योग बनता है और आज शनिवार का दिन, नवमी तिथि और उत्तराफाल्गुनी नक्षत्र, ये तीनों चीज़ें एक साथ हैं। ये योग रोग आदि से छुटकारा पाने के लिये और अपने कार्यों की स्थिरता को बनाये रखने के लिये बहुत ही शुभ है। अतः आप आज के दिन इनसे संबंधित उपाय करके लाभ उठा सकते हैं।(राशिफल 1 दिसंबर 2018: महीने के पहले दिन अशुभ योग के साथ-साथ चंद्रमा बदलेगा राशि, इन राशियों पर पड़ेगा अधिक प्रभाव )

प्रीति योग की बात करें तो इसका अर्थ है प्रेम। ये प्रेम का विस्तार करने वाला योग है। अगर आपका कोई अपना आपसे रूठ गया हो, आपको किसी के साथ समझौता करना हो या आपके प्रेम-विवाह में किसी प्रकार की परेशानी चल रही है या फिर आपको किसी के साथ अपने प्रेम का रिश्ता आगे बढ़ाना हो, तो आज का दिन बहुत ही अच्छा है। आचार्य इंदु प्रकाश के अनुसार प्रीति योग के स्वामी चंद्रमा हैं और आज के दिन सुबह 10:04 से चंद्रमा कन्या राशि में रहेंगे। (Vastu Tips: : घर में ऐसे लगाएं फिनिक्स पक्षी की तस्वीर, कभी नहीं आएगा दुर्भाग्य )

अगर उत्तराफाल्गुनी नक्षत्र की बात करें, तो इसके स्वामी सूर्यदेव हैं, जबकि इसके देवता अर्यमा हैं। अदिति के तीसरे पुत्र और आदित्य नामक सौर-देवताओं में से एक अर्यमन या अर्यमा को पितरों का देवता भी कहा जाता है। उत्तराफाल्गुनी नक्षत्र का पहला चरण सिंह राशि में आता है, जबकि इसके बाकी तीन चरण कन्या राशि में आते हैं।

nakashtra

India Tv पर देश-विदेश की ताजा Hindi News और स्‍पेशल स्‍टोरी पढ़ते हुए अपने आप को रखिए अप-टू-डेट। Religion News in Hindi के लिए क्लिक करें लाइफस्टाइल सेक्‍शन