Live TV
GO
Hindi News लाइफस्टाइल हेल्थ रिसर्च में खुलासा, पुरुषों के मुकाबले...

रिसर्च में खुलासा, पुरुषों के मुकाबले महिलाएं को ज्यादा आता है हार्ट अटैक

एक रिपोर्ट के अनुसार हर साल 4,25,000 महिलाओं को हार्ट स्ट्रोक पड़ता है, जो पुरुषों की तुलना में 55 हजार अधिक है। यही नहीं, वैश्विक स्तर पर चार महिलाओं में से एक महिला की दिल थमने के कारण मौत हो जाती है

India TV Lifestyle Desk
India TV Lifestyle Desk 26 Sep 2018, 15:28:35 IST

हेल्थ डेस्क: खराब लाइफस्टाइल के कारण अधिक मात्रा में हार्ट अटैक के मामले सामने आ रहे है। अचरज की बात ये है कि 30 से 35 साल की उम्र के लोगों को सबसे अधिक इस समस्या का सामना करना पड़ रहा है। लेकिन इस रिपोर्ट के अनुसार पुरुषों की तुलना में महिलाएं अधिक हार्ट अटैक की शिकार हो रही है। जो कि पहले के जमाने में न के बराबर था।

एक रिपोर्ट के अनुसार हर साल 4,25,000 महिलाओं को हार्ट स्ट्रोक पड़ता है, जो पुरुषों की तुलना में 55 हजार अधिक है। यही नहीं, वैश्विक स्तर पर चार महिलाओं में से एक महिला की दिल थमने के कारण मौत हो जाती है। (UP में तेजी से फैल रहा मलेरिया, जानें लक्षण और कैसें करें आप खुद का बचाव )

महिलाओं को हार्ट अटैक आने का कारण
आखिर कारण क्या है। यह सोचने की बात है। कई महिलाएं तो इलाज के अभाव के कारण मौत के मुंह में चली जाती है। या फिर कई बार इसके प्रति सजग न होने के कारण इस बीमारी की गिरफ्त में आ जाती है। (दिल्ली में तेजी से पुरुषों को हो रहा है प्रोस्टेट कैंसर, रहें सतर्क )

कई अध्ययनों के अनुसार कैंसर, एचआईवी एड्स और मलेरिया से जितनी महिलाओं की मौत होती है, उससे अधिक महिलाओं की मौत हृदय वाहिका रोगों (सीवीडी) से होती है। दरअसल, हृदय रोग महिलाओं के लिए सबसे बड़ा हत्यारा है और यह हर मिनट एक महिला को मौत की गिरफ्त में ले जाता है। पूरी नींद नहीं लेने से भी महिलाओं में हार्ट अटैक के खतरे बढ़ रहे हैं। कई बार पूरी नींद नहीं लेने से आर्टरी ब्लॉक हो जाती हैं, जिससे दिल के रोगों का खतरा बढ़ जाता है। बढ़ता हुआ वजन आजकल महिलाओं की सबसे बड़ी समस्या है जो कि हार्ट अटैक का ही एक कारण है।

इस कारण महिलाओं को नहीं चलता पता
आपको यह बात जानकर हैरानी होगी कि पुरुषों को हार्ट अटैक पड़ने पर उसके लक्षण दिखते है। यानी उनके सीने में तेज दर्द होने लगता है। वहीं महिलाओं के साथ ऐसा कुछ नहीं होता है। कई बार 1-2 हार्ट अटैक पड़ जाना भी उन्हें समझ नहीं आता है। महिलाओं में मुख्य लक्षण होते है कि जबड़े में दर्द, अधिक पसीना आना, सीने में जलन या फिर पीठ में दर्द आदि।

वहीं 40-50 साल की महिलाओं को इसतका शिकार होने का खतरा सबसे अधिक होता है क्योंकि इसका कारण मोनोपॉज है। जिससे हार्मेंस में परिवर्तन आता है। जो कि हार्ट अटैक का कारण बन सकता है।

India Tv Hindi पर देश-विदेश की ताजा Hindi News और स्‍पेशल स्‍टोरी पढ़ते हुए अपने आप को रखिए अप-टू-डेट। Health News in Hindi के लिए क्लिक करें लाइफस्टाइल सेक्‍शन

More From Health