Live TV
  1. Home
  2. लाइफस्टाइल
  3. हेल्थ
  4. सिर्फ 10 रुपये में हर स्टेज...

सिर्फ 10 रुपये में हर स्टेज का कैंसर खत्म करने का दावा, घर में ही मौजूद है ट्रिटमेंट

इटली के डॉक्टर से एक हैरान करने वाला दावा पेश किया है। उनका कहना है कि कैंसर का इलाज कुछ रुपए में आपके घर पर ही मौजूद है। इटनी के डॉक्टर टुलियो का कहना है कि कैंसर एक तरह का फंगल है और इसे बेकिंग सोडा की मदद से आसानी से खत्म किया जा सकता है।

India TV Lifestyle Desk
Written by: India TV Lifestyle Desk 27 Aug 2018, 14:27:58 IST

हेल्थ डेस्क: आज के समय में कैंसर एक सबसे खतरनाक बीमारी बनकर उभर रही है। इस गंभीर बीमारी से हर साल लाखों लोग मौत के मुंह में चले जाते हैं। अगर इसका बारें में समय रहते पता चल जाएं तो इस बीमारी को काफी हद तक निजात पाया जाता है। लेकिन इस बीमारी का खर्च आम लोगों के बस में ही है। मंहगी दवाओं के कारण कई परिवार अपने अपनों को खो देते है। लेकिन इटली के डॉक्टर से एक हैरान करने वाला दावा पेश किया है। उनका कहना है कि कैंसर का इलाज कुछ रुपए में आपके घर पर ही मौजूद है। इटनी के डॉक्टर टुलियो का कहना है कि कैंसर एक तरह का फंगल है और इसे बेकिंग सोडा की मदद से आसानी से खत्म किया जा सकता है।

बेकिंग सोड़ा का इस्तेमाल
बेकिंग सोड़ा का इस्तेमाल मुख्यतौर पर खाना बनाने के लिए कियी जाता है। जो कि महज 2 से 10 रुपए की कीमत पर आसानी से मिल जाता है। बेकिंग सोडा की मदद से इटली के डॉ टुलियो सिमोनसिनी सैकड़ों मरीजों का इलाज कर चुके हैं। उनका दावा है कि इस तरीके के उपायोग से वो अब तक सभी स्टेज के कैंसर मरीजों का इलाज कर चुके हैं और सभी लोगों पर यह दवा 100 फीसद प्रभावी है। (मड थेरेपी के ये बेहतरीन फायदें नहीं जानते होगे आप, स्किन पर लगाते ही देखें कमाल )

इनका नहीं है कोई साइड इफेक्ट
डॉ. टुलियो कहते हैं कि यह थेरेपी बिल्कुल हानिकारक नहीं है। अधिक से अधिक कैंसर के मामलों की दर्दनाक वास्तविकता किसी न किसी तरह से ऑन्कोलॉजी की विफलताओं से जुड़ी हुई है। हमें यह साबित करना है कि आधुनिक ऑन्कोलॉजी कैंसर रोगियों के सभी सवालों के जवाब देने में असमर्थ है। यह हमारे समय की सबसे कठिन और घातक बीमारी है, जिसके असली इलाज खोजना हमारी नैतिक जिम्मेदारी और नैतिक प्रतिबद्धता है। (लगातार 4 दिन करें इस ड्रिंक का सेवन और पाएं 4 किलो वजन के साथ कई इंच Waist से छुटकारा)

इस कारण होता है कैंसर
उनके मुताबिक, बेकिंग सोडा की मदद से हम जो इलाज कर रहे हैं उससे 10 दिन में किसी भी स्टेज के कैंसर को काफी हद तक रोका जा सकता है। उन्होंने कहा कि फंगी हमेशा अपने साथ एक ट्यूमर लेकर आते हैं। यह विवो और इन विट्रो, दोनों तरह के अध्ययनों में साबित हुआ है। हालांकि, वैज्ञानिकों का मानना ​है कि वे बीमारी के बाद विकसित होते हैं। मगर, डॉ. टुलियो का मानना है कि वे पहले से ही मौजूद होते हैं।

फंगस के कारण होता है कैंसर
उनके अनुसार, फंगस कैंसर को पैदा करते हैं, प्रतिरक्षा प्रणाली को कमजोर करते हैं और इसके बाद पूरे शरीर पर हमला करते हैं। हर तरह का कैंसर कैंडिडा फंगस की वजह से ही होता है। इसकी कई अध्ययनों से पुष्टि भी हो चुकी है। समय के साथ-साथ हमारी कोशिकाएं कमजोर और थकी हुई हो जाती हैं और अज्ञात कोशिकाओं को उत्पादन शुरू कर देती हैं। उन्होंने कहा कि कैंसर एक अल्सर है, जिसमें विकृत कोशिकाएं जमा होती हैं और कॉलोनीज बना लेती हैं। (रोजाना सोने से पहले सिर्फ एक बड़ी इलायची और फिर देखें कमाल के फायदे)

डॉ. टुलियो ने कहा कि सामान्य एंटी फंगल दवाएं कैंसर के खिलाफ अप्रभावी होती हैं क्योंकि वे केवल कोशिकाओं की सतह पर ही काम करती हैं। मुख्य संक्रमण एक बैक्टीरिया से अधिक शक्तिशाली है। यही कारण है कि फंगल संक्रमण इतने लंबे समय तक शरीर में बना रहता है। डॉ. टूलिओ का दावा है कि उन्होंने उन चीजों की पहचान की है, जो फंगस की कॉलोनीज पर हमला कर सकते हैं।

उन्होंने कहा कि स्किन कैंसर के लिए बेकिंग सोडा और आयोडीन टिंचर सबसे अच्छा पदार्थ है। कई अध्ययनों में यह बात साबित हुई है कि कैंसर के खिलाफ बेकिंग सोडा ने इंट्रासेल्यूलर एक्शन किया है। उन्होंने कहा कि मैंने 20 से अधिक वर्षों से अपने मरीजों पर इलाज का उपयोग किया है। इन रोगियों में से कई ऐसे रोगी भी थे, जिन्हें डॉक्टरों ने कहा था कि उनकी बीमारी लाइलाज है, लेकिन वे पूरी तरह से ठीक हो गए। ट्यूमर को खत्म करने का सबसे अच्छा उपाय है। (नारियल तेल का करें यू इस्तेमाल और सिर्फ 2 मिनट में पाएं पीले दांतों से निजात)

India Tv पर देश-विदेश की ताजा Hindi News और स्‍पेशल स्‍टोरी पढ़ते हुए अपने आप को रखिए अप-टू-डेट। Health News in Hindi के लिए क्लिक करें लाइफस्टाइल सेक्‍शन
Web Title: How To Cure Cancer With Baking Soda Oncologist Makes Ground Breaking Discovery: सिर्फ 10 रुपये में हर स्टेज का कैंसर खत्म करने का दावा, घर में ही मौजूद है ट्रिटमेंट