Live TV
GO
  1. Home
  2. लाइफस्टाइल
  3. हेल्थ
  4. कान के इंफेक्शन को हल्के में...

कान के इंफेक्शन को हल्के में न लें इस तरह से रखें अपने कानों का ख्याल

ईयर इंफेक्शन में कान में दर्द होता है। ईयर इन्फेक्शन अर्थात् कान का दर्द। कान हमारे शरीर की उन ऑर्गन में से एक है, जो बहुत ही नाजुक होता है, इसलिए हमें इसकी देखभाल बहुत ही अच्छे तरीके से चाहिए, नहीं तो हमें बहुत सी भयानक बीमारियों का सामना करना पड़ सक

India TV Lifestyle Desk
Written by: India TV Lifestyle Desk 23 Mar 2018, 16:03:36 IST

हेल्थ डेस्क: ईयर इंफेक्शन में कान में दर्द होता है। ईयर इन्फेक्शन अर्थात् कान का दर्द। कान हमारे शरीर की उन ऑर्गन में से एक है, जो बहुत ही नाजुक होता है, इसलिए हमें इसकी देखभाल बहुत ही अच्छे तरीके से चाहिए, नहीं तो हमें बहुत सी भयानक बीमारियों का सामना करना पड़ सकता है, जैसे कि कान में इन्फेक्शन हो जाना आदि। कान के इन्फेक्शन के कारण हमें सुनने में भी दिक्कत हो सकती है। अगर देखा जाए, तो यह बीमारी हमें नवजात शिशुओं और बच्चों में अधिक मात्रा में देखने को मिलती है। जबकि कई बार बड़े भी इस बीमारी के शिकार हो सकते हैं।

ईयर इंफेक्शन के कारण
कान हमारे शरीर के नाजुक इंद्रियों में से एक है। कान की रचना बहुत ही जटिल तरीके के साथ हुई है। कान में इंफेक्शन या संक्रमण होना बहुत ही आम बात है, लेकिन जब हम अपने कान का सही तरीके के से ध्यान नहीं रखते, तो हम गंभीर बीमारी के शिकार हो सकते हैं, साथ ही हमारे सुनने की शक्ति भी कम हो जाती है। ईयर इंफेक्शन के कई कारण हो सकते हैं जैसे कि...

कान में चोट का लगना।
कान में कीड़े का जाना।
कान की मल का बढ़ जाना।
नहाते हुई कान में पानी चले जाना।
शरीर में पोषक तत्वों की कमी होना।
सर्दी हो जाना।
कर्कश ध्वनि का लगातार सुनाई देना।
श्वास संबंधी समस्या होना आदि कान के इंफेक्शन के मुख्य कारण हो सकते हैं।
ईयर इंफेक्शन के लक्षण

बुखार का आना और बच्चो को ठीक से न सुनाई देना।
कान को खींचने या रगड़ने से।
बच्चा जब ठीक से खाना न खाएं और रोता रहें।
कान में दर्द तब हो जब कान में अधिक गंदगी जम जाएं।
पीली या सफेद रंग का पस बाहर निकले।

घरेलू उपचार
जब भी कान में किसी भी तरह की कोई बीमारी बन जाती है, तब हम अक्सर डॉक्टर के पास चले जाते हैं और अधिकतर केस में डॉक्टर इन्फेक्शन की दवा देते हैं, लेकिन हम डॉक्टर के पास न जाकर कुछ घरेलू उपचार करें, तब भी हम इस बीमारी से आसानी से राहत पा सकते हैं, जैसे कि जब भी कान में दर्द हो, तो उससे राहत पाने के लिए गर्म पानी में भिगोकर कपड़ा कान पर रखें। इससे आप को राहत महसूस होगी। बच्चें को कभी भी सुलाकर दूध न पिलाएं।

हाईड्रोजन पेरॉक्साइड
कान में इन्फेक्शन होने पर हाईड्रोजन पेरॉक्साइड की कुछ बुँदे डालें और तब तक इन्तजार करें, जब तक यह कान में संक्रमण के सम्पर्क में न आये। इसकी बुँदे दिन में दो बार कान में डालें। इसके लिए डॉक्टर से सलाह जरूर लें।

नमक
नमक को गर्म करके एक मोटे कपड़े में डालें और फिर इसे अच्छे से बांध लें, यह अधिक गर्म न हो इस बात को ध्यान में रखते हुए इसे अधिक समय तक कान पर रखें। जितनी बार हो सकें इस प्रक्रिया को दोहरायें।

India Tv पर देश-विदेश की ताजा Hindi News और स्‍पेशल स्‍टोरी पढ़ते हुए अपने आप को रखिए अप-टू-डेट। Health News in Hindi के लिए क्लिक करें लाइफस्टाइल सेक्‍शन
Web Title: Ear infections in adults: Causes, symptoms, and treatment: कान के इंफेक्शन को हल्के में न लें इस तरह से रखें अपने कानों का ख्याल