Live TV
GO
Hindi News भारत राजनीति कैराना सीट पर आज फिर से...

कैराना सीट पर आज फिर से मतदान, EVM में गड़बड़ी की शिकायत के बाद पुर्नमतदान का फैसला

कैराना लोकसभा सीट के उपचुनाव में आज जिन 73 जगहों पर पुर्नमतदान हो रहा है उनमें से 23 बूथ सहारनपुर की नकुड़ विधानसभा जबकि 45 बूथ गंगोह विधानसभा के तहत आते हैं। इसी तरह शामली के पांच पोलिंग बूथों पर भी आज फिर से वोट डाले जाएंगे।

IndiaTV Hindi Desk
IndiaTV Hindi Desk 30 May 2018, 7:34:27 IST

नई दिल्ली: उत्तर प्रदेश के कैराना, भंडारा-गोंदिया और नागालैंड लोकसभा सीट के लिए उपचुनाव में आज फिर से वोट डाले जाएंगे। इन सीटों के लिए हो रहे उपचुनाव में अट्ठाइस मई को वोट डाले गए थे लेकिन कई जगह वोटिंग मशीन में गड़बड़ी की शिकायत के बाद पुर्नमतदान का फैसला किया गया। कैराना में 73 जबकि भंडारा-गोंदिया में 49 बूथों पर आज फिर से वोट डाले जाने हैं। 28 मई को कैराना लोकसभा सीट के लिए हुए उपचुनाव में कई जगह वोटरों और राजनीतिक दलों ने EVM और VVPAT में गड़बड़ी की शिकायतें की थी। बाद में चुनाव आयोग ने भी माना कि EVM में तो नहीं VVPAT में दिक्कत हुई। चुनाव आयोग ने ज्यादा गर्मी को इस गड़बड़ी की वजह बताया।

इसी को देखते हुए चुनाव आयोग ने कैराना और भंडारा-गोंदिया लोकसभा सीट के कई बूथों पर पुर्नमतदान कराने का फैसला किया है। कैराना लोकसभा सीट के 73 और भंडारा-गोंदिया के 49 बूथ पर दोबारा वोटिंग होगी। इन मतदान केंद्रों पर सुबह सात बजे से शाम छह बजे तक वोट डाले जा सकेंगे। कैराना लोकसभा सीट के लिए आज जिन मतदान केंद्रों पर दोबारा वोट डाले जाएंगे उनमें से 68 सहारनपुर और पांच बूथ शामली जिले में हैं।

कैराना लोकसभा सीट के उपचुनाव में आज जिन 73 जगहों पर पुर्नमतदान हो रहा है उनमें से 23 बूथ सहारनपुर की नकुड़ विधानसभा जबकि 45 बूथ गंगोह विधानसभा के तहत आते हैं। इसी तरह शामली के पांच पोलिंग बूथों पर भी आज फिर से वोट डाले जाएंगे। VVPAT खराब होने के सबसे ज़्यादा मामले इन्हीं विधानसभा क्षेत्रों में देखने को मिले थे। वहीं अगर बात भंडारा-गोंदिया लोकसभा सीट की करें तो यहां भी आज 49 पोलिंग बूथों पर फिर से वोटिंग हो रही है। मतदान में गड़बड़ी की शिकायत के बाद चुनाव आयोग ने गोंदिया के कलेक्टर का तबादला भी कर दिया था।

आज ही नागालैंड लोकसभा सीट के एक मतदान केंद्र पर भी पुर्नमतदान हो रहा है। चुनाव आयोग ने इन जगहों पर पुर्नमतदान करवाकर शिकायतों को दूर करने की कोशिश तो की है लेकिन सबसे बड़ा सवाल ये है कि VVPAT मशीन में ऐसे इंतज़ाम क्यों नहीं किए गए कि वो भीषण गर्मी में भी ठीक से काम कर सकें। पिछले कई साल से आम चुनाव भी अप्रैल-मई के महीने में हो रही हैं और इन महीनों में तापमान 40 से 46 डिग्री तक हो ही जाता है। अगले साल के आम चुनाव भी अप्रैल-मई में होंगे। ऐसे में अगर कुछ लोकसभा सीटों के लिए हुए उपचुनाव में ही VVPAT मशीन धोखा दे गई तो आम चुनाव में क्या होगा?

India Tv Hindi पर देश-विदेश की ताजा Hindi News और स्‍पेशल स्‍टोरी पढ़ते हुए अपने आप को रखिए अप-टू-डेट। Politics News in Hindi के लिए क्लिक करें भारत सेक्‍शन