Live TV
GO
Hindi News भारत राजनीति मध्य प्रदेश उपचुनाव Results: बीजेपी को...

मध्य प्रदेश उपचुनाव Results: बीजेपी को करारा झटका, मुंगावली और कोलारस सीटें कांग्रेस ने जीती

इस उप-चुनाव को मध्य प्रदेश का सेमीफाइनल इसलिए कहा जा रहा है क्योंकि दोनों सीट गुना से सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया का गढ़ माना जाता है। ऐसे में दोनों सीटों को जीतना सिंधिया के लिए प्रतिष्ठा का सवाल है।

IndiaTV Hindi Desk
IndiaTV Hindi Desk 28 Feb 2018, 21:48:10 IST

नई दिल्ली: मध्य प्रदेश की दो विधानसभा सीटों के लिए हुए उप-चुनाव में कांग्रेस ने बेहतरीन प्रदर्शन करते हुए मुंगावली की सीट जीत ली है वहीं कोलारस में सीट पर कांग्रेस उम्मीदवार को जीत मिली है है। मुंगावली सीट पर कांग्रेस उम्मीदवार ने भाजपा प्रत्याशी को 2124 वोटों से हराया। निर्वाचन अधिकारी ने मुंगावली सीट पर मतगणना पूरी होने के बाद यह घोषणा की। मुंगावली से कांग्रेस के ब्रजेन्द्र सिंह यादव ने भारतीय जनता पार्टी के भाई साहब राव देशराज सिंह यादव को हराया। ब्रजेन्द्र को कुल 70808 वोट मिले, वहीं भाई साहब को 68684 वोट मिले।

कोलारस सीट कांग्रेस के महेंन्द्र रामसिंह यादव खाटोरा ने जीत ली है। उन्होंने भाजपा के देवेंद्र कुमार जैन पट्टेवाले को हरा दिया है। शिवपुरी जिले के कोलारस और अशोक नगर जिले के मुंगावली विधानसभा उपचुनाव की मतगणना सुबह आठ बजे शुरू हुई थी। 

इससे पहले 10वें दौर की मतगणना पूरी होने पर कोलारस में कांग्रेस ने 3,425 और मुंगावली में 3,602 वोटों की बढ़त बनाई थी। मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी कार्यालय से मिली जानकारी के अनुसार, 10वें दौर की मतगणना में दोनों स्थानों पर कांग्रेस आगे चल रही थी। कोलारस में कांग्रेस प्रत्याशी महेंद्र सिंह यादव को 37,370 वोट मिले जबकि भाजपा प्रत्याशी देवेंद्र जैन को 33,945 वोट मिले ह। मुंगावली में कांग्रेस उम्मीदवार बृजेंद्र सिंह यादव को 37,708 वोट जबकि भाजपा की बाई साहब को 34,106 वोट मिले। 

24 तारीख को शिवपुरी के कोलारस और अशोकनगर के मुंगावली सीट के लिए वोट डाले गए थे। मध्य प्रदेश के इस उप-चुनाव को साल के आखिर में होने वाले विधानसभा चुनाव से पहले सेमीफाइनल के तौर पर देखा जा रहा है। साथ ही इस चुनाव पर मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के साथ-साथ कांग्रेस सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया की साख भी दांव पर लगी है।

कांग्रेस और भाजपा की तरफ से भी इस जंग को शिवराज बनाम महाराज के तौर पर पेश किया गया है। प्रचार में भाजपा की तरफ से मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने पूरी ताकत झोंक दी तो इलाके में महाराज के तौर पर लोकप्रिय स्थानीय सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया भी पीछे नहीं रहे। अपने हर भाषण में उनके निशाने पर शिवराज सिंह चौहान ही रहे। यही वजह है कि दो विधान सभा सीटों का ये उप-चुनाव बेहद दिलचस्प है और दांव पर उम्मीदवारों की नहीं बल्कि सिंधिया और शिवराज की साख लगी है।

LIVE अपडेट्स

-कोलारस सीट कांग्रेस के महेंन्द्र रामसिंह यादव खाटोरा ने जीत ली 
- मुंगावली से कांग्रेस के ब्रजेन्द्र सिंह यादव ने भारतीय जनता पार्टी के भाई साहब राव देशराज सिंह यादव को हराया।
-कांग्रेस ने मुंगावली की सीट 2124 वोटों से जीत ली 
-10वें दौर की मतगणना पूरी होने पर कोलारस में कांग्रेस ने 3,425 और मुंगावली में 3,602 वोटों की बढ़त बनाई 
-आठवें दौर की मतगणना में कोलारस में कांग्रेस प्रत्याशी को 30,839 वोट मिले थे जबकि भाजपा प्रत्याशी को 28,230 वोट हासिल हुए। 
-अशोक नगर की मुंगावली सीट पर कांग्रेस उम्मीदवार बृजेंद्र सिंह यादव को 30,738 और भाजपा प्रत्याशी बाई साहब को 27,346 वोट हासिल हुए।
​-चौथे राउंड की गिनती के बाद, मुंगावली में 1373 और कोलारस में 1583 वोटों से कांग्रेस आगे
-कोलारस और मुंगावली विधानसभा उपचुनाव की मतगणना जारी, शुरुआती रुझान में दोनों सीटों पर कांग्रेस आगे
-मुंगावली से बीजेपी की बाईसाब यादव कांग्रेस के बृजेंद्र सिंह यादव आगे चल रही हैं तो कोलारस में कांग्रेस के महेंद्र सिंह यादव अपने विरोधी बीजेपी के देवेंद्र जैन से आगे चल रहे हैं
-पहले पोस्‍टल बैलेट की गिनती हो रही है
-मुंगावली 23 में से 21 डाक पत्र निरस्त हुए

अगर कांग्रेस उम्मीदवार सिंधिया के भरोसे हैं तो कोलारस से भाजपा उम्मीदवार देवेंद्र जैन को भी अपनी जीत के लिए मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के करिश्मे का ही सहारा है। मुंगावली से कांग्रेस विधायक महेंद्र सिंह कालुखेड़ा और कोलारस से कांग्रेस विधायक राम सिंह यादव की मौत के बाद यहां 24 तारीख को उप-चुनाव के लिए वोट डाले गए। मुंगावली में भाजपा की तरफ से बाइसाब यादव कांग्रेस के बृजेंद्र सिंह यादव को मुकाबला दे रहे हैं तो कोलारस में भाजपा के देवेंद्र जैन का मुकाबला कांग्रेस के महेंद्र सिंह यादव से है।

इस उप-चुनाव को मध्य प्रदेश का सेमीफाइनल इसलिए कहा जा रहा है क्योंकि दोनों सीट गुना से सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया का गढ़ माना जाता है। ऐसे में दोनों सीटों को जीतना सिंधिया के लिए प्रतिष्ठा का सवाल है। जीत के बाद सिंधिया का सीएम कैंडिडेट के रूप में दावा मजबूत होगा और इस जीत के साथ कांग्रेस विधानसभा चुनाव में भाजपा को टक्कर देने मैदान में उतरेगी। साथ ही कांग्रेस एंटी-इनकंबेंसी का फायदा भी उठाने की कोशिश करेगी।

वहीं भाजपा के लिए भी ये उप-चुनाव जीतना काफी अहम है। अहम इसलिए क्योंकि छह महीने बाद मध्य प्रदेश में विधानसभा चुनाव होने हैं। इस जीत से भाजपा दोगुने जोश के साथ प्रचार में उतर सकेगी। इसके साथ ही ये जीत शिवराज के डेढ़ दशक के शासन पर भी मुहर होगी लेकिन अगर उप-चुनाव में हार मिली तो भाजपा के अंदर चेहरा बदलने की मांग उठ सकती है। तो इस उप-चुनाव पर कांग्रेस और भाजपा दोनों की ही साख दांव पर है।

India Tv Hindi पर देश-विदेश की ताजा Hindi News और स्‍पेशल स्‍टोरी पढ़ते हुए अपने आप को रखिए अप-टू-डेट। Politics News in Hindi के लिए क्लिक करें भारत सेक्‍शन

More From Politics