Live TV
  1. Home
  2. भारत
  3. राजनीति
  4. राजस्थान में सरकारी खर्च पर हो...

राजस्थान में सरकारी खर्च पर हो रही वसुंधरा राजे की गौरव यात्रा तत्काल निरस्त हो: अशोक गहलोत

राजस्थान के पूर्व मुख्यमंत्री एवं कांग्रेस के राष्ट्रीय महासचिव अशोक गहलोत ने कहा है कि मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे की राजस्थान गौरव यात्रा पूरी तरह सरकारी खर्च पर की जा रही भाजपा की चुनावी यात्रा है और इसे तुरंत रोकना चाहिए।

India TV News Desk
Edited by: India TV News Desk 20 Aug 2018, 9:55:50 IST

जयपुर (राजस्थान): राजस्थान के पूर्व मुख्यमंत्री एवं कांग्रेस के राष्ट्रीय महासचिव अशोक गहलोत ने कहा है कि मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे की राजस्थान गौरव यात्रा पूरी तरह सरकारी खर्च पर की जा रही भाजपा की चुनावी यात्रा है और इसे तुरंत रोकना चाहिए। उन्होंने कहा कि उच्च न्यायालय ने एक जनहित याचिका की सुनवाई करते हुए भाजपा से इस यात्रा पर हुए खर्च का हिसाब शपथ पत्र सहित पेश करने के आदेश देकर प्रथम दृष्ट्या मान लिया है कि यह यात्रा सरकारी धन पर चल रही है।

गहलोत ने एक बयान में कहा कि पूरी दुनिया जानती है कि यह यात्रा सरकारी खर्चे पर की जा रही है। इसके लिए बाकायदा विभिन्न विभागों द्वारा आदेश भी जारी किये गये। गौरव यात्रा में जिस कदर सरकारी धन का दुरुपयोग किया गया, मुख्यमंत्री को इसके लिए जनता से माफी मांगनी चाहिए। एक अन्य बयान में राजस्थान प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष सचिन पायलट ने भी भाजपा सरकार द्वारा राजस्थान गौरव यात्रा के चुनावी कार्यक्रम में सरकारी संसाधनों के दुरुपयोग पर न्यायालय की आपत्ति के बाद भी सार्वजनिक निर्माण विभाग, पिण्डवाडा-आबू द्वारा निविदाएं आमंत्रित किये जाने को न्यायपालिका की अवमानना बताया है।

Related Stories

उन्होंने कहा कि सार्वजनिक निर्माण विभाग द्वारा निविदा जारी करने से स्पष्ट हो गया है कि भाजपा सरकार न्यायपालिका का सम्मान नहीं करती है। भाजपा सरकार का यह कदम बताता है कि सरकार को ना जनभावना की परवाह है ना ही न्यायालय के निर्देशों का सम्मान है।

India Tv पर देश-विदेश की ताजा Hindi News और स्‍पेशल स्‍टोरी रीड करते हुए अपने आप को रखिए अप-टू-डेट। Politics News in Hindi के लिए क्लिक करें khabarindiaTv का भारत सेक्‍शन
Web Title: राजस्थान में सरकारी खर्च पर हो रही वसुंधरा राजे की गौरव यात्रा तत्काल निरस्त हो: अशोक गहलोत- Gaurav Yatra on govt expenditure should be canceled immediately, says Ashok Gehlot