Live TV
  1. Home
  2. भारत
  3. राष्ट्रीय
  4. Rajat Sharma Blog: अटल बिहारी वाजपेयी...

Rajat Sharma Blog: अटल बिहारी वाजपेयी सही मायने में अजातशत्रु थे

विभिन्न राजनीतिक दलों के नेताओं ने दिल खोलकर वाजपेयी की तारीफ की। इससे एक बात साफ है कि वाजपेयी बड़े दिल वाले शख्स थे। वे विभिन्न विचारों वाली राजनीतिक पार्टियों को भी साथ लेकर चलते थे।

Rajat Sharma
Written by: Rajat Sharma 21 Aug 2018, 17:44:17 IST

नई दिल्ली में सोमवार को आयोजित सर्वदलीय शोकसभा में कश्मीर घाटी के दोनों राजनीतिक प्रतिद्वंदी-नेशनल कॉन्फ्रेंस के डॉ. फारूक अब्दुल्ला और पीडीपी की महबूबा मुफ्ती ने एक स्वर में अटल बिहारी वाजपेयी की कश्मीर नीति की तारीफ की। यह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ के प्रमुख मोहन भागवत और सभी प्रमुख राजनीतिक दलों के नेताओं की मौजूदगी में हुआ। डॉक्टर फारूक अब्दुल्ला ने 'भारत माता की जय' के नारे लगाए और कहा कि कैसे पाकिस्तान की तरफ से हो रही गोलीबारी के बावजूद वाजपेयी जी नियंत्रण रेखा के पास जवानों के साथ खड़े रहे। पूर्व मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती ने वाजपेयी की 'कश्मीरियत, इंसानियत, जम्हूरियत' नीति की तारीफ की। महबूबा मुफ्ती ने कहा वाजपेयी ने निष्पक्ष चुनाव करा घाटी के लोगों का भरोसा जीता था। उन्होंने कहा-'आज कश्मीर वाजपेयी की याद में रो रहा है।'

महबूबा मुफ्ती ने अटल जी के बारे में जो बातें कही वो बहुत बड़ी है। वाजपेयी जी ने अपने कार्यकाल में कश्मीर में निष्पक्ष चुनाव करवाए। चुनाव के दौरान बड़ी संख्या में लोग मतदान के लिए घरों से बाहर निकले। अटल जी ने कश्मीर के लोगों का भरोसा जीता। यह एक बड़ा और ऐतिहासिक बदलाव था। फारूक अब्दुल्ला और महबूबा मुफ्ती दोनों ने कहा कि कश्मीर का मसला सुलझाने के लिए अटल जी के बताए हुए रास्ते पर चलना होगा। हमें यह समझना चाहिए कि कश्मीर के मुद्दे को पाकिस्तान से अलग करके नहीं देखा जा सकता। यह बात अटल जी ने समझी और भारत-पाकिस्तान दोनों मुल्कों के लोगों को समझाने की कोशिश की। 

कांग्रेस, एआईएडीएमके, डीएमके, तृणमूल कांग्रेस, शिवसेना और बीजू जनता दल जैसे विभिन्न राजनीतिक दलों के नेताओं ने दिल खोलकर वाजपेयी की तारीफ की। इससे एक बात साफ है कि वाजपेयी बड़े दिल वाले शख्स थे। वे विभिन्न विचारों वाली राजनीतिक पार्टियों को भी साथ लेकर चलते थे। यह अटल बिहारी वाजपेयी ही थे जिन्होंने यह दिखाया कि 22 राजनीतिक दलों के साथ केंद्र में गठबंधन की सरकार 6 साल तक सफलतापूर्वक काम कर सकती है। यह वाजपेयी जी की सबसे बड़ी ताकत थी कि वो न सिर्फ विरोधी दलों को बल्कि पड़ोसी देशों को भी साथ लेकर चलते थे। उनके कार्यकाल में पहली बार चीन ने सिक्किम के रास्ते व्यापार के लिए नाथू-लॉ सीमा को खोला। अटल जी रिश्ते को बनाना और उसे निभाना जानते थे। 

हमें वाजपेयी जी के बताए उस रास्ते पर चलना होगा जिससे देश में समन्वय और सौहार्द का वातावरण बने। यह वाजपेयी जी को सच्ची श्रद्धांजलि होगी। इंडिया टीवी परिवार की तरफ से एक बार फिर अटल जी को हम विनम्र श्रद्धांजलि अर्पित करते हैं। (रजत शर्मा)

India Tv पर देश-विदेश की ताजा Hindi News और स्‍पेशल स्‍टोरी रीड करते हुए अपने आप को रखिए अप-टू-डेट। National News in Hindi के लिए क्लिक करें khabarindiaTv का भारत सेक्‍शन
Web Title: Rajat Sharma Blog: Rajat Sharma Blog: अटल बिहारी वाजपेयी सही मायने में अजातशत्रु थे: Atal Bihari Vajpayee was an ‘ajatshatru’, a man who had no enemies