Live TV
GO
Hindi News भारत राष्ट्रीय मानसून: दिल्ली समेत अधिकतर उत्तर भारत...

मानसून: दिल्ली समेत अधिकतर उत्तर भारत से ‘रूठे बादल’, अधिकतर राज्यों में बारिश की भारी कमी

मौसम विभाग के मुताबिक अबतक बीते मानसून सीजन के दौरान पंजाब, हरियाणा, उत्तर प्रदेश, दिल्ली, हिमाचल और उत्तराखंड में सामान्य के मुकाबले बहुत कम बरसात हुई है।

IndiaTV Hindi Desk
IndiaTV Hindi Desk 10 Jul 2019, 11:08:52 IST

नई दिल्ली। देशभर के ज्यादातर राज्यों में जहां भारी बरसात परेशानी का कारण बनी हुई है वहीं उत्तर भारत के ज्यादातर राज्य बारिश की भारी कमी का सामना कर रह हैं। मौसम विभाग के मुताबिक अबतक बीते मानसून सीजन के दौरान पंजाब, हरियाणा, उत्तर प्रदेश, दिल्ली, हिमाचल और उत्तराखंड में सामान्य के मुकाबले बहुत कम बरसात हुई है।

मौसम विभाग के मुताबिक अबतक बीते मानसून सीजन के दौरान दिल्ली में सामान्य के मुकाबले 87 प्रतिशत कम बरसात दर्ज की गई है। पहली जून से लेकर 9 जुलाई तक सामान्य तौर पर दिल्ली में 104.2 मिलीमीटर बरसात हो जाती है, लेकिन इस बार सिर्फ 13.5 मिलीमीटर बरसात दर्ज की गई है।

मौसम विभाग के मुताबिक कुछ ऐसा ही हाल उत्तर भारत के अन्य राज्यों का भी है, हरियाणा में अबतक बीते मानसून सीजन में सिर्फ 35.5 मिलीमीटर बारिश दर्ज की गई है जो सामान्य से 56 प्रतिशत कम है, कुछ ऐसा ही हाल पंजाब का भी है जहां सामान्य से 50 प्रतिशत कम यानि सिर्फ 45.5 मिलीमीटर पानी बरसा है। पहली जून से 9 जुलाई तक हिमाचल में 102.4 मिलीमीटर बारिश हुई है जो सामान्य से 36 प्रतिशत कम है और उत्तराखंड में 147.5 मिलीमीटर बारिश दर्ज की गई है जो सामान्य से 47 प्रतिशत कम है।

उत्तर प्रदेश में हालांकि अन्य उत्तर भारतीय राज्यों के मुकाबले स्थिति कुछ बेहतर है लेकिन बरसात की कमी फिर भी है, उत्तर प्रदेश में पहली जून से लेकर 9 जुलाई तक 117.5 मिलीमीटर बरसात रिकॉर्ड की गई है जो सामान्य 158.1 मिलीमीटर से 26 प्रतिशत कम है।

पूरे देश में अबतक बीते मानसून सीजन में हुई बरसात की बात करें तो सामान्य के मुकाबले 17 प्रतिशत कम बरसात दर्ज की गई है, मौसम विभाग के मुताबिक देशभर में पहली जून से लेकर 9 जुलाई तक औसतन 202.7 मिलीमीटर बरसात दर्ज की गई है जबकि सामान्य तौर पर इस दौरान 243.6 मिलीमीटर बारिश होती है।

India Tv पर देश-विदेश की ताजा Hindi News और स्‍पेशल स्‍टोरी पढ़ते हुए अपने आप को रखिए अप-टू-डेट। National News in Hindi के लिए क्लिक करें भारत सेक्‍शन