Live TV
GO
  1. Home
  2. भारत
  3. राष्ट्रीय
  4. आज हम टॉप संस्थानों में बहुत...

आज हम टॉप संस्थानों में बहुत पीछे हैं, यह स्थिति बदलनी है: पीएम मोदी

इस सम्मेलन के विषयों में भारतीय शिक्षा प्रणाली के समक्ष चुनौतियां तथा शिक्षा के क्षेत्र में हासिल किये जाने योग्य परिणाम एवं शिक्षा का नियमन शामिल है। सम्मेलन को आठ सत्रों में बांटा गया है।

IndiaTV Hindi Desk
Edited by: IndiaTV Hindi Desk 29 Sep 2018, 12:07:48 IST

नई दिल्ली: प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने आज ‘शिक्षा के पुनर्जीवन पर अकादमिक नेतृत्व’ सम्मेलन का उद्घाटन किया। इस सम्मेलन में शिक्षा एवं शोध गुणवत्ता, नवोन्मेष, उद्यमिता के आयाम, समावेशी कैम्पस, नैतिक शिक्षा, वित्तपोषण के विविध आयाम आदि के बारे में चर्चा होगी। सूत्रों ने बताया कि विज्ञान भवन में आयोजित इस सम्मेलन में करीब 350 विश्वविद्यालयों के कुलपति, निदेशक हिस्सा ले रहे हैं। इसका आयोजन यूजीसी, एआईसीटीई, आईसीएसएसआर, आईजीएनसीए, जेएनयू और एसजीटी विश्वविद्यालय संयुक्त रूप से कर रहे हैं।

इस सम्मेलन के विषयों में भारतीय शिक्षा प्रणाली के समक्ष चुनौतियां तथा शिक्षा के क्षेत्र में हासिल किये जाने योग्य परिणाम एवं शिक्षा का नियमन शामिल है। सम्मेलन को आठ सत्रों में बांटा गया है। इसमें सीखने वालों पर केंद्रीत शिक्षा के आयामों को बेहतर बनाने एवं व्यवस्थित पठन पाठन के लिये आर्टिफिसियल इंटेलिजेंस का उपयोग तथा रोजगार मांगने वालों से रोजगार सृजनकर्ता जिसमें नवोन्मेष एवं उद्यमिता को बढ़ावा देना शामिल है।

Related Stories

LIVE अपडेट्स

-केंद्र सरकार की कोशिश है कि हर स्तर पर देश की आवश्यकताओं में शिक्षण संस्थाओं को भागीदार बनाएं: पीएम मोदी
-अटल टिंकरिंग लैब की शुरुआत की गई है। 2000 से ज्यादा स्कूलों में इसकी शुरुआत हो चुकी है। अगले कुछ महीनों में इसकी संख्या 5 हजार करने जा रहे हैं: पीएम मोदी
-बच्चों पर कुछ भी थोपा न जाए: पीएम मोदी
-सरकार शिक्षा में निवेश पर ध्यान दे रही है, RISE कार्यक्रम शुरू किया है, इसके जरिये 2022 तक 1 लाख करोड़ रुपये खर्च करने का इरादा है: पीएम मोदी
-सरकार नीति लाई है, जिसके अंतर्गत 20 इंस्टीट्यूट ऑफ इमीनेंस सेटअप करने की कोशिश की जा रही है। आज हम टॉप संस्थानों में बहुत पीछे हैं, यह स्थिति बदलनी है: पीएम मोदी
-हम दुनिया के सर्वश्रेष्ठ शिक्षकों को आमंत्रित कर रहे हैं और खुले विचारों के पक्षधर हैं। आईआईएम को स्वायत्तता देकर इसकी शुरुआत कर दी है: पीएम मोदी
-10 पब्लिक सेक्टर और 10 प्राइवेट सेक्टर के संस्थानों को विश्वस्तरीय बनाया जाएगा: पीएम मोदी
-सरकार पब्लिक सेक्टर के प्रत्येक संस्थान पर कुछ वर्षों में एक हजार करोड़ रुपये खर्च करेगी: पीएम मोदी
-IMM में जो रिफार्म किये गए इन पर कोई चर्चा नहीं हो रही है। क्योंकि उन्हें लगता है कि कही कुछ अच्छा बोला गया तो मोदी के खाते में चला जायेगा: पीएम मोदी
-कुछ दिन पहले मैं बनारस गया था, वहां BHU में कुछ छात्रों से मिला, पता नही कभी कुलपति उनसे मिले थे या नहीं। वो छात्र Try to Fight नामक संस्था चलाते है जो कचरा बीनने वाले बच्चों को शिक्षा देने का काम करते हैं: पीएम मोदी

सम्मेलन में भारत की जरूरतों के अनुरूप शोध की गुणवत्ता को बेहतर बनाना, अकादमिक संसधानों को साझा करते हुए शैक्षणिक संस्थाओं में समन्वय बनाना, समावेशी एवं समन्वित परिसर बनाना, सहभागिता आधारित प्रशासनिक मॉडल, ठोस वित्तीय मॉडल का निर्माण तथा सार्वभौम मूल्यों पर आधारित नौतिक शिक्षा को बढ़ावा देने के विषय पर चर्चा होगी।

सम्मेलन के समापण सत्र की अध्यक्षता मानव संसाधन विकास मंत्री प्रकाश जावड़ेकर करेंगे जिसमें आठों विषयों पर समूह सहमत कार्ययोजना पर प्रस्तुती देंगे। इसमें उच्च शिक्षा क्षेत्र को बेहतर बनाने के लिये समग्र कार्ययोजना सामने आने की उम्मीद है।

India Tv पर देश-विदेश की ताजा Hindi News और स्‍पेशल स्‍टोरी पढ़ते हुए अपने आप को रखिए अप-टू-डेट। National News in Hindi के लिए क्लिक करें भारत सेक्‍शन
Web Title: आज हम टॉप संस्थानों में बहुत पीछे हैं, यह स्थिति बदलनी है: पीएम मोदी - PM Narendra Modi inaugurates conference over 350 higher education institutions today