Live TV
  1. Home
  2. भारत
  3. राष्ट्रीय
  4. Kerala Floods: पीएम मोदी ने किया...

Kerala Floods: पीएम मोदी ने किया हवाई सर्वेक्षण, 500 करोड़ की मदद का ऐलान, अबतक 385 की मौत

केरल में भारी बारिश और बाढ़ के चलते अब तक 385 लोगों की मौत हुई है जबकि हजारों की संख्या में लोग फंसे हुए हैं।

IndiaTV Hindi Desk
Edited by: IndiaTV Hindi Desk 18 Aug 2018, 16:50:52 IST

तिरुवनंतपुरम: केरल इन दिनों भयंकर बाढ़ की विभीषिका से जूझ रहा है। भारी बारिश और बाढ़ के चलते अब तक राज्य में 385 लोगों की मौत हुई है जबकि हजारों की संख्या में लोग फंसे हुए हैं। यहां एक दर्जन से अधिक हेलीकॉप्टर, सैकड़ों रक्षा कर्मियों, एनडीआरएफ की टीमों और मछुआरों ने शुक्रवार को बड़े पैमाने पर बचाव अभियान शुरू किया है। हालांकि, शुक्रवार सुबह से कई जिलों में बारिश की रफ्तार कम हुई है, लेकिन बचाव कार्य नाकाफी साबित हो रहे हैं। इस बीच प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी केरल में बाढ़ की तबाही का जायजा लेने के लिए देर रात कोच्चि पहुंचे। शनिवार को पीएम मोदी ने केरल के मुख्यमंत्री पिनाराई विजयन के साथ बाढ़ प्रभावित इलाकों का हवाई सर्वक्षण किया। प्रधानमंत्री ने केरल में बाढ़ और बारिश के कारण मरने वाले लोगों के परिजनों को प्रधानमंत्री राष्ट्रीय राहत कोष से 2 लाख और घायलों को 50 हजार रुपए की सहायता राशि देने की घोषणा की है।

उफान पर हैं नदियां, हजारों लोग कर रहे मदद की उम्मीद
पेरियार और इसकी सहायक नदियों में उफान से एनार्कुलम और त्रिशूर के कई कस्बे जलमग्न हो गए हैं। परावुर, कलाडी, चालाकुडी, पेरुं बवूर, मुवातुपुझा शामिल हैं। चालाकुडी से टीवी चैनलों को वीडियो क्लिप भेजने वाले लोगों के एक समूह ने कहा, ‘हमारे पास खाना नहीं है और 150 लोग राहत कार्य की प्रतीक्षा कर रहे हैं।’ हजारों लोग अभी भी ऊंची इमारतों पर बैठे हैं और बचाए जाने की प्रतीक्षा कर रहे हैं। अकेले एनार्कुलम और त्रिशूर शिविरों में 50,000 से अधिक लोग फंसे हैं।

केरल बाढ़ लाइव अपडेट

01:55 pm: पीएम मोदी ने बाढ़ के हालात का हवाई निरीक्षण किया। खराब मौसम के कारण हेलीकॉप्टर कुछ स्थानों पर नही जा सका। पीएम ने बाढ़ की समीक्षा करने के बाद केरल को तत्काल 500 करोड़ रुपये की वित्तीय सहायता देने की घोषणा करने के साथ केंद्र से हरसंभव मदद का भरोसा दिया है। हमने उनको धन्यवाद देते हुए हेलीकॉप्टर और नाव देने की मांग की है: केरल के मुख्यमंत्री पिनाराई विजयन

01:43 pm: दिल्ली, पंजाब और हरियाणा के बाद अब बिहार ने 10 करोड़ वित्तीय सहायता देने की घोषणा की।

12:52 pm: केरल दौरे पर पीएम मोदी ने शनिवार को स्थिती की समीक्षा की और राज्य में आई आपदा से निपटने के लिए केंद्र की तरफ से 500 करोड़ की आर्थिक मदद देने की घोषणा की।

12:45 pm: भयानक बाढ़ से प्रभावित केरल को हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने 10 करोड़ रुपए की मदद राशि देने का ऐलान किया।

11:51 pm: केरल के 8 बाढ़ प्रभावित जिलों में एनडीआरएफ की 58 टीमों को लगाया गया है। जिन्होनें 7000 लोगों को सुरक्षित स्थान पर पहुंचाया: संजय कुमार, डीजी, एनडीआरएफ

11:19 am: पीएम मोदी ने केरल के मुख्यमंत्री पिनाराई विजयन के साथ बाढ़ प्रभावित इलाकों का हवाई सर्वक्षण किया। प्रधानमंत्री ने केरल में बाढ़ और बारिश के कारण मरने वाले लोगों के परिजनों को प्रधानमंत्री राहत कोष से 2 लाख और घायलों को 50 हजार रुपए की सहायता राशि देने की घोषणा की है।

10:18 am: 

09:55 am: यूएई ने बाढ़ प्रभावित केरल की मदद के लिए एक कमेटी का गठन किया। शेख खलीफा ने राष्ट्रीय आपातकालीन समिति से कहा कि केरल में लोगों की मदद के लिए उठाए जाए कदम।

09:41 am:

09:23 am: कट्टाप्पना: कुमिली से इडुक्की को जोड़ने वाला हाइवे भूस्खलन के कारण बंद, राहत कार्य जारी।

09:01 am: 

08:19 am: बाढ़ से प्रभावित केरल के लिए भारतीय स्टेट बैंक ने मुख्यमंत्री राहत कोष में 2 करोड़ रुपए की सहायता राशि दी। बैंक ने राज्य में दी जानें वाली सेवाओं पर लगने वाला शुल्क भी हटाया।

07:13 am: 

राहत कोष में दान की अपील

​केरल में आई भारी तबाही के बीच सूबे के मुख्यमंत्री ने लोगों से राहत कोष में मदद देने की अपील की है।

बचाव कार्यों में सरकार ने लाई तेजी
सूबे के मुख्यमंत्री पिनराई विजयन ने बताया है कि मई महीने से लेकर अब तक बारिश और बाढ़ के चलते 385 लोगों की मौत हो चुकी है। विजयन ने शुक्रवार को कहा कि राज्य भर में 1,568 राहत शिविरों में 2.25 लाख लोग रह रहे हैं। मध्य केरल का पत्तनमतिट्टा जिला सर्वाधिक प्रभावित रहा। यहां पंबा नदी के उफान के कारण रानी और कोझेनचेरी जैसे कस्बे पूरी तरह से जलमग्न हैं। कोल्लम से नौका बाढ़ प्रभावित इलाकों में पहुंची और रक्षाकर्मियों की सहायता से बचाव अभियान जारी रहा। राज्य की राजधानी के तटीय गांवों से सैकड़ों अनुभवी मछुआरों पत्तनमतिट्टा पहुंचे और बचाव अभियान शुरू कर दिया। हेलीकॉप्टर भी लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचा रहे हैं। 

कोझिकोड और वायनाड में 20,000 लोग राहत शिविरों में
आलुवा के विधायक अनवर सदत ने कहा कि ईंधन की कमी बचाव में बाधा डाल रही है क्योंकि मौजूदा स्थिति में परिवहन का एकमात्र साधन नाव है। उन्होंने कहा कि स्थिति बहुत खराब हैं। अलुवा पूरी तरह से असहाय है। लोगों के पास पानी और भोजन नहीं है। हमारा एकमात्र सहारा मछुआरे हैं जो हमें बचा रहे हैं। मौसम विभाग ने शनिवार तक अगले 24 घंटों में कम बारिश होने का अनुमान जताया है। मलाप्पुरम, कोझिकोड और वायनाड में राहत कार्य सुचारू ढंग से आगे बढ़ रही है। कोझिकोड और वायनाड में 20,000 से अधिक लोग राहत शिविरों में रह रहे हैं।

सुप्रीम कोर्ट ने दिए निर्देश
सुप्रीम कोर्ट ने राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन समिति और केरल की उप-समिति से मुल्लापेरियार बांध में जल स्तर कम करके 139 फुट करने के तरीके तलाश करने को कहा है। कोर्ट ने कहा कि बाढ़ से निपटने में वह कोई विशेषज्ञ नहीं है, इस संकट से निपटने की जिम्मेदारी कार्यपालिका पर छोड़ी जा रही है। कोर्ट ने आपदा प्रबंधन और पुनर्वास के संबंध में उठाए गए कदमों पर केरल से रिपोर्ट भी तलब की है। कोर्ट ने राज्य सरकार से कहा है कि मुल्लापेरियार बांध से पानी छोड़ते हुए समुचित एहतियाती कदम उठाए ताकि इससे लोग प्रभावित ना हो। 

परिवहन व्यवस्था पर बुरा असर
एर्नाकुलम और त्रिशूर के बीच रेल सेवा रद्द कर दी गई हैं। कुछ लंबी दूरी की ट्रेनें नगेरकोल सेक्टर के जरिए डाइवर्ट कर दी गई हैं। दक्षिण रेलवे के प्रवक्ता ने कहा, ‘अंगमाली और अलुवा के बीच डाउनलाइन पर पुल नंबर 176 पर जलस्तर बढ़ने के कारण इस पुल पर सेवा बंद कर दी गई है।’ कोच्चि मेट्रो रेल लिमिटेड (केएमआरएल) ने अलुवा के निकट मट्टम में अपने यार्ड के बाढ़ के पानी में डूबे जाने के बाद अपना परिचालन बंद कर दिया। केएमआरएल ने एक बयान में बताया, ‘मट्टम यार्ड क्षेत्र में जलस्तर बढ़ने के कारण कोच्चि मेट्रो ट्रेन सेवा बंद कर दी गई है।’ अधिकारियों ने बताया कि कमलसेरी इलाके में शहर को जोड़ने व वाली राष्ट्रीय राजमार्ग के डूब जाने के कारण कोच्चि में बस सेवा भी प्रभावित हुई है। लगातार हो रही बारिश और पेरियार नदी में बांध का फाटक खोले जाने के चलते कोच्चि अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डा क्षेत्र में पानी प्रवेश कर जाने के कारण शनिवार तक यहां सभी तरह की हवाई सेवा को बंद कर दिया गया।

टेलिकॉम कंपनियों ने दी राहत
भयंकर बाढ़ से प्रभावित केरल के लिए देश की प्रमुख टेलिकॉम कंपनियों ने बड़ी राहत दी है। कंपनियां बाढ़ प्रभावित राज्‍य के ग्राहकों को 7 दिनों तक फ्री कॉलिंग और डेटा की सुविधा प्रदान कर रही है। इसके साथ ही कंपनियों ने बिल पेमेंट एवं अन्‍य सेवाओं में भी 7 दिनों की रियायत देने की घोषणा की है। लोगों को राहत देने वालों में सबसे आगे सरकारी कंपनी बीएसएनएल और रिलायंस जियो है। इन दोनों कंपनियों ने अपने सभी ग्राहकों को फ्री कॉलिंग की सुविधा प्रदान की है। (पढ़ें विस्तृत खबर: बाढ़ प्रभावित केरल को टेलिकॉम कंपनियों ने दी राहत, 7 दिनों तक मिलेंगी मुफ्त सेवाएं)

{img-19669}

14 में से 13 जिलों में हाई अलर्ट, बचाव कार्य में तेजी
भारतीय नौसेना ने त्रिचुर, अलूवा और मवूत्तुपुझा में फंसे हुए लोगों को हवाई मार्ग से निकाला है। वीडियो में दिखाया गया है कि लोग जलमग्न घरों की छतों और पहाड़ों पर हैं तथा नौसेना हेलीकॉप्टरों के जरिए निकाल रही है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के निर्देशों पर रक्षा मंत्रालय ने राज्य में राहत और बचाव कार्य के लिए सेना की तीन इकाइयों की नयी टीमें भेजी हैं। राज्य में 1.5 लाख से ज्यादा बेघर और विस्थापित लोग राहत शिविरों में हैं। सूत्रों ने बताया कि राज्य के 14 जिलों में से एक को छोड़ कर सभी हाई अलर्ट पर हैं।

हालात का जायजा लेने केरल रवाना हुए पीएम
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शुक्रवार को फोन पर मुख्यमंत्री पिनारई विजयन के साथ बाढ़ की स्थिति पर चर्चा की और कहा कि वह स्थिति का जायजा लेने के लिए शुक्रवार की शाम केरल के दौरे पर रवाना हुए। मोदी ने ट्वीट कर कहा, ‘हमने राज्यभर में बने बाढ़ के हालात पर चर्चा की और बचाव अभियान का जायजा लिया।’ प्रधानमंत्री बीते दो दिनों से विजयन के संपर्क में बने हुए हैं। बताया जा रहा है कि शनिवार को प्रधानमंत्री बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों का हवाई सर्वेक्षण भी करेंगे।

देखें: केरल में बाढ़ का कहर

(पीटीआई, आईएएनएस से इनपुट्स के साथ)

India Tv पर देश-विदेश की ताजा Hindi News और स्‍पेशल स्‍टोरी रीड करते हुए अपने आप को रखिए अप-टू-डेट। National News in Hindi के लिए क्लिक करें khabarindiaTv का भारत सेक्‍शन
Web Title: Kerala Flood Fury LIVE: Torrential rains, overflowing rivers, landslides kill over 160, PM Modi To Review Relief Ops