Live TV
GO
  1. Home
  2. बिहार
  3. पटना
  4. चले लालू के बेटे तेजप्रताप हीरो...

चले लालू के बेटे तेजप्रताप हीरो बनाने, ऑडिशन के दौरान जमकर लगे ठहाके

ऑडिशन लेने के बाद तेज प्रताप साइकिल पर सवार होकर मिलर स्कूल ग्राउंड पहुंच गए। 24 जनवरी को आरजेडी इसी मैदान में कर्पूरी ठाकुर की जयंती मनाने वाली है। लिहाजा लालू के बड़े बेटे कुछ इस तरह से तैयारियों का जायजा लेने लगे।

IndiaTV Hindi Desk
Written by: IndiaTV Hindi Desk 23 Jan 2019, 10:42:33 IST

नई दिल्ली: जिस जनता दरबार में बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री लालू प्रसाद के बड़े बेटे लोगों की समस्याएं सुनते हैं उसी जनता दरबार में मंगलवार को अजीबो-गरीब हालात पैदा हो गए। जनता दरबार में पहुंचे एक शख्स ने तेज प्रताप से हीरो बनाने की मांग कर दी। तेज प्रताप ने भी उसे निराश नहीं किया। कैमरे के सामने अजब ऑडिशन लिया और फिर हुआ धुआंधार एक्शन।

रोज की तरह पटना के आरजेडी दफ्तर में तेज प्रताप जनता की समस्याएं सुन रहे थे और उसका समाधान निकाल रहे थे तभी उनके सामने एक अजीब सी समस्या आ गई। हीरो बनने के लिए, बॉलीवुड में छाने के लिए हट्ठा-कट्ठा एक नौजवान तेज प्रताप की शरण में आ गया।

रितेश नाम के इस युवक को गुंडे का रोल चाहिए था जिसके लिए वो भोजपुरी सिनेमा के सुपरस्टार खेसारी लाल यादव से मिलना चाहता था। मुलाकात और एक्टिंग का करियर फिक्स हो इसके लिए ये तेज प्रताप से गुहार लगाने पहुंच गया। इसी के बाद शुरू हुआ अदाकारी वाला हाईवोल्टेज ड्रामा।

ऑडिशन लेने के बाद तेज प्रताप साइकिल पर सवार होकर मिलर स्कूल ग्राउंड पहुंच गए। 24 जनवरी को आरजेडी इसी मैदान में कर्पूरी ठाकुर की जयंती मनाने वाली है। लिहाजा लालू के बड़े बेटे कुछ इस तरह से तैयारियों का जायजा लेने लगे।

बता दें कि तेज प्रताप जब से अज्ञातवास से लौटे हैं तब से सुर्खियों में हैं। कभी जनता दरबार को लेकर तो कभी अपने अलहदा अंदाज को लेकर। वोट का महायुद्ध नजदीक आता जा रहा है इसलिए लालू के बेटे जनता में अपनी मौजूदगी दर्ज कराने कोई मौका नहीं छोड़ रहे हैं। मकसद सिर्फ एक है। पब्लिक को रिझाना। वोट पाना और सियासी रण में विजय पताका फहराना।

India Tv पर देश-विदेश की ताजा Hindi News और स्‍पेशल स्‍टोरी पढ़ते हुए अपने आप को रखिए अप-टू-डेट। Patna News in Hindi के लिए क्लिक करें बिहार सेक्‍शन
Web Title: चले लालू के बेटे तेजप्रताप हीरो बनाने, ऑडिशन के दौरान जमकर लगे ठहाके - When a strugling actor reaches Tej Pratap's janta darbar in Patna